तेरे बगैर मेरा मुस्कुराना नहीं होता

ेरा ख्वाब़ पलकों में पुराना नहीं होता!
तेरे बगैर मेरा मुस्कुराना नहीं होता!
मिल जाती मंजूरे-नज़र मुझको जो तेरी, 
दर्द का यूँ जिन्द़गी में आना नहीं होता!

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -