प्रभु का बजट : नहीं बढ़ाया किराया, चलेगी 4 स्पेशल फैसिलिटी वाली ट्रेनें, जानिए ख़ास बातें

Feb 25 2016 02:26 PM
प्रभु का बजट : नहीं बढ़ाया किराया, चलेगी 4 स्पेशल फैसिलिटी वाली ट्रेनें, जानिए ख़ास बातें

नई दिल्ली : रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने आज रेल बजट प्रस्तुत किया। रेल बजट के पहले उन्होंने अपना अभिभाषण दिया। जिसमें उन्होंने रेलवे में साफ-सफाई की स्थिति में आए बदलाव पर संतोष जताया। उनका कहना था कि रेलवे की दशा को सुधारने में एनजीओज़ का अच्छा सहयोग मिला। उन्होंने कहा कि यह बजट आम आदमी के लिए तैयार किया गया है। इस पर अच्छी चर्चा की गई है। इसे तैयार करने में यात्री की गरिमा, रेल की गति और रेल बजट प्रबंधन का ध्यान रखा गया है। रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने कहा है कि पूर्वप्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पंक्तियों का उल्लेख करते हुए रेलवे के कार्यों को आगे बढ़ाने की बात कही।

उन्होंने कहा कि विश्व में मंदी का असर है। इसकी भी बढ़ी चुनौती है। सुरेश प्रभु ने रेलवे के लिए तीन बातों पर ध्यान देते हुए कहा कि नवअर्जन रेलवे के लिए प्राथमिकता है। नवमाणन के तहत वित्तीय वर्ष में खर्च होने वाले एक एक रूपए का आंकलन किया जाएगा। हर क्रिया कलाप को पूरा करेंगे। नवसंरचना के तहत अंदरूनी ढांचों और अन्य बातों का फिर से अवलोकन किया जाएगा। उनका कहना था कि काम करने के स्वरूप में बदलाव लाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि रेलवे केवल किराया बढ़ाकर कमाई का स्त्रोत बढ़ाने पर ध्यान नहीं देगा। मगर अर्थव्यवस्था के लिए सरकारात्मक दृष्टिकोण अपनाऐंगे। उन्होंने कहा कि माल भाड़ा बढ़ाकर किराया बढ़ाया जा सकता है। रेलमंत्री ने कहा कि रेलवे राज्य सरकार और अन्य तरह की भागीदारी की सूची को पहली बार एक बुक में तय कर रहा है। रेलवे का विज़न ऐसी रेल सेवा देना है जिस पर सभी को गर्व हो। उन्होंने कहा कि सेमिहाईस्पीड गाडि़यों का परिचालन भी रेलवे के कार्य में है। 

प्रधानमंत्री की मंशा के अनुसार तेजी, कुशलता और पारदर्शिता का ध्यान रेलवे के कार्यों में रखा जाएगा। इस मामले में रेल परियोजनाओं पर चर्चा करने की बात भी कही गई। उन्होंने कहा कि गाडि़यों का संचालन समय पर करने और सभी को रिजर्वेशन मिल पाने का लक्ष्य 2020 तक के लिए रखा गया है। उनहोंने कहा कि रेलवे मानव रहित समपार को समाप्त कर देगा।

यह उसका उद्देश्य है। रेलवे द्वारा यात्रियों को जब उन्हें जरूरत हो तब टिकट उपलब्ध करवाने की सेवा को वर्ष 2020 तक पूर्ण किया जाएगा। उनेंने कहा कि रेलवे में संरचना के पुनर्निर्माण और पुर्नगठन की आवश्यकता है। रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने रेलवे के विद्युतीकरण पर भी ध्यान दिया। उनका कहना था कि इसे दोगुना करने पर भी ध्यान दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि मिजोरम में अमानपरिवर्तन पर ध्यान दिया जा रहा है। जम्मू - कश्मीर में उधमपुर और कटरा बलिहार का रेलखंड अच्छा कार्य कर रहा है यहां कई तरह की विषमताऐं हैं। उन्होंने मेकइन इंडिया पर ध्यान देते हुए कहा कि सरकार दो कारखानों को स्थापित करने में लगी हुई है जिसमें बिहार, पूर्वी क्षेत्र में रोजगार की संभावनाओं को बढ़ाने पर ध्यान देगा। पारदर्शिता सरकार का महत्वपूर्ण सिद्धांत है। सोश्यल मीडिया को भी रेलवे अपना रहा है। रेलवे का प्रयास है कि कागज का उपयोग कम से कम हो। 

रेलवे इलेक्ट्राॅनिक कार्यप्रणाली पर कार्य देने में लगा है। उन्होंने कहा कि यात्री गाडि़यों की स्पीड को 80 किलोमीटर प्रतिघंटा तक करने का प्रयास रेलवे द्वारा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रेलवे की सभी प्रक्रियाऐं ई - प्लेटफाॅर्म पर हो रही हैं। रेलवे ने कई यात्री गाडि़यों में यात्री सुविधाऐं बढ़ाई हैं। मोबाईल चार्जिंग पाॅईंट भी रेलवे ने लगाए हैं। रेलवे ने आधुनिक शौचालय भी रेलवे में बनाए हैं। उन्होंने कहा कि यात्रियों की शिकायत के लिए रेलवे ने फोनलाईन भी प्रारंभ की है। रेलवे द्वारा स्टेशनों पर 2500 वाॅटर वेंडिंग मशीनें लगाई गई हैं।

रेलवे ने दीव्यांगों के लिए स्पेशल सुविधा प्रदान की है। रेलवे स्टेशन पर वाई - फाई इंटरनेट सेवा को उपलब्ध करवाया जा रहा है। इसे बढ़ाने के प्रयास भी रेलवे कर रहा है। जिसके लिए गूगल के साथ कार्य किया जा रहा है। कुछ स्टेशन्स पर रेलवे ने डिस्पोजेबल बिस्तरों की सुविधा भी प्रदान की है। स्टेशनों की दीवारों पर भित्ती चित्र भी बनाए गए हैं जिसमें सवाई माधोपुर स्टेशन पर वन्य जीवन पर चित्रण किया गया है जिससे स्टेशन सुंदर नज़र आते हैं और जागृति भी विकसित होती है। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा पर रेलवे ने कार्य किया है।

इसके लिए 182 हेल्पलाईन सेवा प्रारंभ की गई। सीसीटीवी निगरानी की व्यवस्व्था स्टेशनों पर की गई है। उन्होंने कहा कि व्हील चेयर की सुविधा भी प्रदान की जा रही है। इसकी आॅनलाईन बुकिंग की सुविधा भी प्रदान की जा रही है। पीपीपी के तहत भी रेलवे के स्टेशनों का विकास होगा। रेलमंत्री ने कहा कि दिव्यांगों के लिए रेल के डिब्बों में ब्रेल सुविधा का आधार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बैंक मैनेजमेंट सिस्टम को भी रेलवे में अपनाया गया है। उन्होंने हमसफर, तेजस और उदय की शुरूआत की जाएगी। तेजस में यात्री सुविधाऐं दी जाऐंगी और इसकी स्पीड भी अच्छी होगी। जो कि करीब 130 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलेगी।

हमसफर को एसी सुविधायुकत किया जाएगा। हमसफर में केवल एसी थ्री कोच होंगे। उदय में डबल डेकर और एसी सुविधा प्रदान की जाएगी। यह केवल रात्रि में चलेगी। यह ट्रेन 4 टियर होगी। जिससे लंबी दूरी की यात्रा की चालन क्षमता को बढ़ाया जा सकेगा। इसके अलावा अंत्योदय ट्रेन में आरक्षण की सुविधा नहीं होगी अर्थात यह ट्रेन अनारक्षित श्रेणी की होगी। 

हमसफर में भोजन की सुविधा भी होगी। रेलमंत्री ने बताया कि तत्काल टिकट बुकिंग हेतु स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जाऐंगे। यात्री एसएमएस के माध्यम से कोच में सफाई की मांग भी कर सकते हैं। पत्रकारों हेतु ई बुकिंग की सुविधा रियायती पास पर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि वड़ोदरा में रेल विश्वविद्यालय खोला जाएगा। उन्होंने कहा कि करीब 7 अरब लोग इस सुविधा का लाभ लेते हैं। उन्होंने यात्रियों हेतु यात्रा बीमा उपलब्ध करवाने की बात भी कही। उन्होंने विकल्प ट्रेन की शुरूआत करने की बात भी कही। 

उन्होंने महिलाओं और बच्चों हेतु जननी रेल सेवा शुरू किए जाने की योजना के बारे में भी बताया। उनका कहना था कि मनोरंजन हेतु ट्रेनों में एफएम का प्रसारण भी प्रारंभ होगा। तीर्थयात्री गाडि़यों के स्टेशनों को चमकाया जाएगा। उन्होंने कहा कि उन्होंने कहा कि टिकटों की समस्याओं का निराकरण करने के लिए मोबाईल एप भी विकसित की जाएगी। 

उन्होंने कहा कि रेलवे में तकनीकी विकास पर ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने राज्य सरकारों से रेलवे को सहयोग करने की अपील की। उन्होंने कहा कि यात्रियों की सुविधा हेतु रिटायरिंग रूम की सुविधा घंटे के अनुसार दी जाएगी। उन्होंने कहा कि दिल्ली में रिंग रोड़ की ही तरह रिंग रेल का विकास किया जाएगा। इस रेल सेवा से प्रदूषण कम करने में मदद मिलेगी।

इस रेल सेवा के 21 स्टेशन होंगे। उनहोंने कहा कि मुंबई का प्लेटफाॅर्म उंचा किया जाएगा वहीं धार्मिक महत्व वाले क्षेत्रों को आस्था नेटवर्क से जोड़े जाऐंगे। यात्रियों हेतु वैकल्पिक बीमा सुविधा प्रदान की जाएगी। मुंबई में चर्चगेट, पनवेल, सीएसटी स्टेशन को एलिवेटेड सुविधा से लैस किया जाएगा। रेलवे ने निजी क्षेत्र की भागीदारी बढ़ाने पर भी विचार किया है।

डबल डेकर ट्रेन का संचालन किए जाने से राजस्व की बढ़ोतरी होगी। इसमें किसी तरह का खर्च नहीं होगा। कंटेनर ट्रैफिक को बढ़ाने की बात भी कही गई। माल यातायात में में राजस्व बढ़ाने के आधार पर विस्तार की आवश्यकता पर बल दिया गया है। कोलकाता में मेट्रो के कार्य को लेकर चर्चा की गई है। ईस्ष्ट - वेस्ट का प्रथम चरण पूर्ण हो गया है।

दिल्ली मे प्रदूषण का काफी दबाव है ऐसे में दिल्ली में रिंग रेल चलाकर प्रदूषण से निजात देने का प्रयास किया गया है। रेलवे में दुर्घटनाओं को लेकर 20 प्रतिशत की कमी आई है। इस हेतु जापान और दक्षिण कोरिया से सहायता ली जाएगी। इस तरह से 44 प्रोजेक्ट्स पर कार्य होगा। रेलवे द्वारा 5300 किलोमीटर की नई रेल लाईन तैयार करने की बात कही गई है।

तेजस व उदय में विशेष सुविधा भी दिए जाने की बात कही गई है। रेलवे ने मेक इन इंडिया की बात करते हुए देश में 40 हजार करोड़ रूपए की लागत से लोकोमोटिव फैक्ट्री लगाने की बात भी कही है। 400 स्टेशन्स पर वाई - फाई सर्विस लगाने और इसे बढ़ाने की बात भी कही गई है। रोजगार बढ़ाने के लिए रेलवे में भर्ती प्रक्रिया को आॅनलाईन करने की बात भी रेल मंत्री ने कही। रेल बजट प्रस्तुत करते हुए रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने कहा है कि वे ड्राइविंग सीट पर जरूर हैं लेकिन पूरी जनता उनके साथ सफर कर रही है। \रेल बजट की सराहना करते हुए रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि यह बजट सुधारों वाला है। इसमें जनता के हित का ध्यान रखा गया है।