सुप्रीम कोर्ट के जज को ही घोषित कर दिया गुस्ताख-ए-रसूल, ‘सर तन से जुदा’ के नारों के साथ सड़कों पर उतरी भीड़
सुप्रीम कोर्ट के जज को ही घोषित कर दिया गुस्ताख-ए-रसूल, ‘सर तन से जुदा’ के नारों के साथ सड़कों पर उतरी भीड़
Share:

काठमांडू: नेपाल में देश के सर्वोच्च न्यायालय के जज कमलनारायण दास के नाम से एक पोस्ट सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। इस पोस्ट के खिलाफ मुस्लिम समाज के लोग सड़कों पर उतर कर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। भीड़ ‘अल्लाह-हू-अकबर’ का नारा लगा कर कई स्थानों पर चक्का जाम कर रही है। भीड़ में शामिल लोग, पोस्ट में लिखी गई बातों को अपने पैगंबर का अनादर बता कर जज के पुतले फूंक रहे हैं। यही नहीं सोशल मीडिया पर ‘सर तन से जुदा’ के नारे भी देखे जा रहे हैं। नेपाल के मुस्लिम आयोग ने भी इस मामले में सरकार से एक्शन लेने की माँग की है।

 

मुस्लिम आयोग ने नेपाल सरकार को एक शिकायती पत्र दिया है, जिसमे बताया गया है कि फेसबुक पर कमल नारायण दास के नाम से इस्लाम का अपमान करने के लिए झूठी और भ्रामक बातें लिखी गईं है। इस पोस्ट में मुस्लिम समुदाय द्वारा रखे जाने वाले रोजे पर टिप्पणी की गई है। मुस्लिम आयोग ने इस पोस्ट पर रमजान में साझा करने के पीछे नेपाल के भाईचारे को खत्म करने की साजिश बताया है। मुस्लिम आयोग ने गुस्सा जाहिर करते इसे नेपाल में साम्प्रदायिकता फैलाने की साजिश करार दिया है। 

 

रिपोर्ट के अनुसार, नेपाल में तमाम मत-मजहबों को एक जैसा बताते हए मुस्लिम आयोग ने कहा है कि कुछ लोग कमल नारायण दास के नाम से वायरल हो रही पोस्ट को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बता रहे हैं। मुस्लिम आयोग ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता जैसी दलीलों को इस मामले में गलत करार देते हुए इसको अपनी संस्कृति पर हमला माना है। मुस्लिम आयोग का कहना है कि ऐसी पोस्ट को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बताना नेपाली कानून और संविधान का उल्लंघन है। इसके साथ ही मुस्लिम आयोग ने आरोपित के खिलाफ सख्त कार्रवाई की माँग की है। पत्र पर अध्यक्ष के रूप में शमीम मियाँ अंसारी के हस्ताक्षर हैं।

सुप्रीम कोर्ट के जज को गिरफ्तार करो :-

बता दें कि, कथित पोस्ट जिस सोशल मीडिया अकाउंट द्वारा किया गया है, वह नॉन-वेरिफाइड है। अभी तक नेपाली पुलिस या कोई जाँच एजेंसी आधिकारिक रूप से यह नहीं बता पाई है कि पोस्ट किसने लिखी है। इसके बाद भी नेपाल के एक बड़े हिस्से में मुस्लिम भीड़ वहाँ की शीर्ष अदालत के जज कमलनारायण दास के खिलाफ सड़क पर उतर कर प्रदर्शन कर रही है। ‘नेपाली मुस्लिम शांति समाज सरलाही मलंगवा’ नामक एक फेसबुक पेज पर तो ‘Arrest Kamal Naranyan Das’ नाम से कैंपेन भी चलाया जा रहा है। 12 अप्रैल (शुक्रवार) को इस कैप्शन से साथ अटैच वीडियो में मुस्लिम भीड़ चौराहे पर आग लगाकर नारेबाजी करती नज़र आ रही है।

फरहाद अहमद नामक एक शख्स ने शनिवार (13 अप्रैल, 2024) को अपने फेसबुक पर कमलनारायण दास के खिलाफ नेपाल के सरलाही जिला स्थित मलंगवा में निकले जुलूस के वीडियो पोस्ट किए हैं। यह जुलूस मुस्लिम बोर्ड नेपाल की तरफ से निकाला गया है। इस प्रदर्शन के जुलूस में छपे पोस्टर्स पर ‘गुस्ताख-ए-रसूल के खिलाफ कार्रवाई’ दर्ज था। जुलूस में कई मौलवी और मौलाना नज़र आए थे। ये सभी पुलिस के सामने ही भड़काऊ नारे लगा रहे हैं।

इन नारों में अल्लाह हु अकबर, नारा ए तकबीर के साथ ‘तेरा मेरा रिश्ता क्या, ला इलाह इल्ललाह’ जैसे नारे शामिल थे। वहीं, बीच में से एक व्यक्ति कह रहा था कि, ‘सर तन से जुदा’ वाला लगाओ। हालाँकि, अभी तक नेपाली पुलिस ने किसी की गिरफ्तारी की आधिकारिक पुष्टि नहीं की है।

मनोज तिवारी के खिलाफ कन्हैया कुमार, कांग्रेस ने जारी की नई सूची, पूर्व सीएम शीला दीक्षित के बेटे का टिकट काटा

'मछली खाओ, सूअर खाओ या हाथी, दिखाने की क्या जरूरत..', बिहार की धरती से विपक्ष पर बरसे राजनाथ सिंह

CJI चंद्रचूड़ को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के पूर्व जजों ने लिखी चिट्ठी, कहा- न्यायपालिका पर दबाव बना रहे कुछ गुट

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -