1 मिनट में बिना दर्द के मौत, यहां पर 'मौत की मशीन' को मिली कानूनी मंजूरी

सुसाइड मशीन के उपयोग को स्विट्जरलैंड सरकार ने कानूनी अनुमति दे दी है. इसे बनाने वाली कंपनी का दावा है कि इस मशीन से किसी भी शख्स की 1 मिनट के अंदर बगैर किसी दर्द के मौत हो सकती है. ये मशीन ताबूत के आकार की बनी हुई है. इस मशीन के माध्यम से ऑक्सीजन का स्तर बहुत कम कर दिया जाता है जिससे 1 मिनट के भीतर मौत हो जाती है. एग्जिट इंटरनेशनल नाम की संस्था के निर्देशक डॉ. फिलिप निट्स्के (Dr Philip Nitschke) ने इस 'मौत की मशीन' को बनाया है. उन्हें 'डॉ. डेथ' भी बोला जाता है. 

स्विट्जरलैंड में इच्छामृत्यु को कानूनी मान्यता प्राप्त हुई हुई है. एग्जिट इंटरनेशनल का दावा है कि बीते वर्ष स्विट्जरलैंड में 1,300 व्यक्तियों ने दूसरों की सहायता से खुदखुशी की थी. बताया जा रहा है कि इस मशीन को ऐसे व्यक्तियों के लिए बनाया गया है जो बीमारी के कारण हिल-डुल भी नहीं पाते. रिपोर्ट के अनुसार, इस मशीन को भीतर से भी ऑपरेट भी किया जा सकता है. बीमार शख्स मशीन के भीतर पलकें झपकाकर भी इस मशीन को चला सकता है. इस मशीन में बायोडिग्रेडेबल कैप्सूल लगा है जिसे ताबूत की भांति उपयोग किया जा सकता है. 

इस मशीन को Sarco नाम दिया गया है तथा अभी इसका प्रोटोटाइप पेश किया गया है. डॉ. निट्स्के ने बताया, 'यदि सब ठीक रहा तो अगले वर्ष तक ये मशीन प्राप्त हो जाएगी. ये अब तक की सबसे महंगी परियोजना है, मगर हम इसके बहुत नजदीक हैं.' हालाँकि, ऐसी मशीन बनाने पर डॉ. निट्स्के की आलोचना भी हो रही है. इंडिपेंडेंट ने कहा कि कुछ लोगों ने मशीन के उपयोग करने के तरीके पर प्रश्न उठाए हैं. लोगों का कहना है कि ये भयंकर गैस चैंबर है. कुछ लोगों का ये भी कहना है कि ये मशीन व्यक्तियों को आत्महत्या के लिए उकसाएगी. फिलहाल दो मशीन के प्रोटोटाइप तैयार हैं. तीसरी मशीन का प्रोडक्शन भी किया जा रहा है तथा अगले वर्ष तक इसके तैयार होने का अनुमान है.

बड़ी खबर! कुन्नूर में हुआ सेना का हेलीकॉप्टर क्रैश, CDS बिपिन रावत भी थे मौजूद

सोने का बंगला और हाईफाई लुगाई लेने बुलेट पर निकला युवक, कटा 9 हजार का चालान

गाय को बचाने के चक्कर में ड्राइवर ने खोया नियंत्रण हो गया बड़ा हादसा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -