नीतीश पर पत्थर, वहीँ तेजस्वी पर बरसे फूल

बिहार : समीक्षा यात्रा के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर पत्थरों की बरसात होना पहले ही RJD और तेजस्वी पर सवालिया निशान लगा रहा था, ऐसे में तेजस्वी का उसी गांव का दौरा करना जहाँ नीतीश पर पत्थरों की बरसात हुई थी, और लोगों द्वारा पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी का फूल बरसा कर स्वागत करना RJD को एक बार फिर निशाने पर ले आयी है. आपको बता दें कि अभी हाल ही में समीक्षा यात्रा के दौरान बक्सर के नंदन गांव में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर महादलित परिवारों ने पत्थरबाजी की थी. इसके बाद आरजेडी ने आरोप लगते हुए कहा था कि महादलित परिवारों को ऐसा करना मुख्यमंत्री के जाने के बाद भारी पड़ा और उन्हें पुलिस का गुस्सा झेलना पड़ा. इसी दर्द को हल्का करने और दलित परिवारों के जख्मो पर मरहम लगाने शनिवार को तेजस्वी नंदन गांव के दौरे पर पहुंचे थे.

गौरतलब है कि तेजस्वी के यहाँ पहुंचने पर उनका स्वागत दलित परिवारों द्वारा फूल बरसा कर किया गया. RJD ने तेजस्वी के स्वागत की कुछ तस्वीरें अपने ट्वीटर हैंडल पर पोस्ट भी की हैं और लिखा है कि 'बिहार में एक तरफ मुख्यमंत्री नीतीश पर पत्थर बरस रहे है तो वही दूसरी तरफ विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव पर फूल.'

इसके बाद जदयू को 440 वोल्ट का करंट लग गया, तेजस्वी यादव को अपने निशाने पर लेते हुए JDU ने कहा कि किराए पर लाये गए लोगों से अपने आप पर फूलो की बरसात कराना, तेजस्वी द्वारा ग्रीन कारपेट पॉलिटिक्स की शुरुआत करना है. वहीँ पार्टी प्रवक्ता संजय सिंह का ने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट कर कहा कि - तेजस्वी नंदन गांव गए इस से उनका असली राजनैतिक चेहरा सामने आ गया. वे वहां महादलितों के परिवार को सांत्वना देने गए थे लेकिन उन्होंने किराए के लोगों से अपने ऊपर फूलों की बरसात करवाई. संजय ने तेजस्वी पर तंज कसा और कहा, तेजस्वी ने ग्रीन कारपेट पॉलिटिक्स में एंट्री मार ही ली. वैसे भी बिहार की जनता अनुकम्पा नेता के तौर पर तेजस्वी को देखती है.

वहीँ तेजस्वी पर निशाना साधते हुए और तेजस्वी के ऊपर चल रहे बेनामी संपत्ति मामले को लेकर संजय ने कहा कि अपनी बेनामी संपत्ति को बचाने के लिए तेजस्वी आये दिन नए-नए प्रपंच कर रहे हैं. बिहार की जनता अब इस बात का जवाब चाहती है कि आखिर लालू परिवार ने इतनी अपार संपत्ति कैसे जोड़ ली? तेजस्वी को पहले जनता के सवालों का जवाब देना चाहिए.

मुख्‍यमंत्री की सुरक्षा पर फिर सवाल

बिहार में तीन सौ करोड़ रुपये में होगा स्टेडियम का कायाकल्प

विराट विशाल ऐतिहासिक मानव श्रृंखला का सफल आयोजन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -