कप्तान का खुलासा : बलात्कार के डर से महिला खिलाडी आपस में करती थीं सेक्स

नई दिल्ली : भारतीय महिला फुटबॉल टीम की पूर्व कप्तान सोना चौधरी ने कई ऐसे सनसनीखेज खुलासे किए हैं जिन्हें सुनकर आपके रौंगटे खड़े हो जाएंगे. उन्होंने कहा कि महिला टीम की खिलाड़ी बलात्कार के डर से आपस में सेक्स करती थीं. और इसके बाद उनका अफेयर भी शुरू हो जाता.

सोना चौधरी मूलतः हरियाणा की रहनेवाली हैं. 1994 में करियर शुरू करने वालीं सोना हरियाणा की बेस्ट प्लेयर थीं.सोना ने भारतीय महिला फुटबॉल टीम मैनेजमेंट, कोच और सचिव द्वारा महिला टीम की खिलाडियों के उत्पीड़न को लेकर यह खुलासे किए हैं. सोना ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में अपनी किताब 'गेम इन गेम' लांच की है इस का विमोचन पाकिस्तानी गायक गुलाम अली ने किया था. 

सोना के अनुसार 'टीम मैनेजमेंट का कोई सदस्य रेप न कर दे, इस डर से खिलाड़ी आपस में समलैंगिक संबंध बना लेती थीं. और एक लड़की दूसरे लड़की को पसंद करने लगती थी. उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य की टीम हो फिर राष्ट्रीय टीम हो या भारतीय टीम, कई लड़कियों को कई स्तर पर समझौता करने के लिए मानसिक रूप से प्रताड़ित किया जाता है.

सोना चौधरी ने हरियाणा पुलिस की प्रशंसा करते हुए बताया कि उन्होंने मेरा काफी समर्थन किया है और वे अपना ग्राउंड खेलने के लिए देते थे.

आप को बता दें कि सोना चौधरी मूलतः हरियाणा की रहनेवाली हैं. लेकिन हरियाणा में खिलाड़ियों के साथ होने वाली राजनीति से परेशान होकर 1995 में उत्तरप्रदेश में आकर बस गईं थीं. 1995 में ही भारतीय महिला फुटबॉल टीम में खेलने का मौका मिला और इसके बाद वे महज एक 1 बाद वे भारतीय महिला फुटबॉल टीम की कप्तान बन गईं.1994 में करियर शुरू करने वालीं सोना हरियाणा की बेस्ट प्लेयर थीं. 2002 में शादी के बाद वह वाराणसी आकर बस गईं.

सोना चौधरी खुद एक अच्छी लेखिका रहीं हैं और उन्हें लेखन के लिए जम्मू कश्मीर और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पिछले साल सम्मानित भी कर चुके हैं. इससे पहले उन्होंने 2 उपन्यास भी लिखे हैं.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -