विकास जातिवाद और संप्रदायवाद से तय होगी चुनावी जीत

अहमदाबाद। गुजरात विधानसभा चुनाव के तहत आज, पहले चरण का मतदान होगा। पहले चरण के मतदान के तहत 89 सीटों के लिए 977 प्रत्याशी मैदान में हैं। इन सभी सीटों पर करीब 2.12 करोड़ मतदाता मैदान में हैं। गुजरात के लोकतंत्र का महायज्ञ आज से प्रारंभ हो गया है। आज हुई वोटिंग के बाद, अब अगला चरण 14 दिसंबर को होगा। मतदाताओं के मन में जहां जातिगत समीकरणों का प्रभाव है और, विभिन्न सांप्रदायिक मान्यताओं से वे घिरे हुए हैं वहीं, सबसे अधिक असर विकास के मसले का हो रहा है।

लोग प्रत्याशियों को क्षेत्र में किए जाने वाले विकास कार्यों, उनके संभावित विकास कार्यों, रोजगार सृजन आदि को लेकर भी चुनना चाहते हैं। निर्वाचन में कांग्रेस और भाजपा के बीच कड़ा मुकाबला है। आरक्षण, आर्थिक विकास व रोजगार के मसले पर लोग भाजपा के विकल्प को तलाश सकते हैं।

माना जा रहा है कि, कांग्रेस का प्रभाव अधिकांशतः अधेड़ व बुजुर्गों में नज़र आ रहा है। मगर युवाओं में कांग्रेस की अधिक पैठ नहीं हुई है। हालांकि, राहुल गांधी इस कमी को पूरा करने में लगे हैं। यदि वर्ष 2014 के आम चुनाव की बात करें तो, विधानसभा क्षेत्र में आने वाली 84 संसदीय सीटों पर भारतीय जनता पार्टी काबिज हुई थी।

हालांकि चुनावों में मोदी फेक्टर काफी मजबूत था। मगर इस बार कांग्रेस ने विकास पागल हो गया है, केंद्र सरकार की जीएसटी, महंगाई, भ्रष्टाचार, नोटबंदी को लेकर जो आलोचना की है, उससे उसे जरूर कुछ लाभ हो सकता है। दूसरी ओर, भाजपा माइक्रो लेवल रणनीति पर कार्य कर रही है। माना जा रहा है कि, अयोध्या मसले पर हुए, राजनीतिक हंगामे का भाजपा को लाभ मिल सकता है। हालांकि, भाजपा पहले चरण में अपनी शानदार जीत के दावे कर रही है। राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी स्वयं यह मान रहे हैं कि, प्रथम चरण के तहत उनके पास किसी तरह की चुनौती नहीं है।

राहुल ने चखा गुजरात की पावभाजी का स्वाद

कांग्रेस ने जारी की बेतुके बयानों वाले भाजपा नेताओं की लिस्ट

गुजरात चुनाव : मतदान से जुड़ी लाइव खबर

मैं भारत मां का बेटा जिंदगीभर करूंगा सेवा - पीएम मोदी

 

 

 

 

 

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -