शिवसेना का बीजेपी पर आरोप, लोकतंत्र का गला घोंटा गया

मुंबई: उतराखंड में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने पर शिवसेना ने भी बीजेपी पर लोकतंत्र का गला घोंटने का आरोप लगाया है, उनका कहना है कि इससे देश में अराजकता और अस्थिरता जैसा माहौल पैदा हो सकता है, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र में बीजेपी के साथ उनका गठबंधन अस्थायी है और यह राजनीतिक जरुरत का नतीजा है।

इस गठबंधन में नैतिकता या अनैतिकता कोई सवाल ही नहीं है। उतराखंड में कांग्रेस में बढ़े विद्रोह के कारण बीजेपी ने राज्य में रविवार को राष्ट्रपति शासन लगा दिया था। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में बीजेपी पर ये आरोप लगाया कि बीजेपी ने उतराखंड सरकार को अस्थिर करने के लिए 9 बागी विधायकों का इस्तेमाल किया।

शिवसेना ने सवालिया लहजे में कहा है कि यदि सरकार अपना बहुमत खो चुकी थी, तो फैसला राज्य की विधानसभा द्वारा लिया जाना था, राज्यपाल ने भी सरकार को 28 मार्च तक बहुमत साबित करने का समय दिया था, लेकिन उससे पहले ही राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया, इससे बीजेपी ने क्या हासिल किया।

आगे शिवसेना ने लिखा कि हम कांग्रेस के खिलाफ है, लेकिन लोकतांत्रिक तरीके से सत्ता में आई सरकार को लोकतांत्रिक माध्यम से ही हटाया जाना चाहिए। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने कल आदेश जारी करके 31 मार्च को विधानसभा में शक्ति परीक्षण करवाने के लिए कहा।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -