राम मंदिर नहीं तो भाजपा सत्ता में नहीं

मुंबई : 6 दिसंबर अर्थात् अयोध्या की बाबरी मस्ज़िद विध्वंस का दिन। हालांकि अब इस समय को 24 वर्ष हो गए हैं। मगर आज भी इसे हिंदूवादियों द्वारा शौर्य दिवस और मुस्लिम संगठनों द्वारा काले दिवस के तौर पर मनाने की परंपरा है। ऐसे में बाबरी विध्वंस की 24 वीं वर्षगांठ पर लखनऊ में शिवसेना का कार्यक्रम हुआ। इस दौरान शिवसेनिकों ने 6 दिसंबर को मारे जाने वाले कारसेवकों की आत्मा की शांति के लिए हवन - पूजन किया।

शिवसेना महानगर प्रमुख अभिषेक अग्निहोत्री के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं द्वारा वाहन रैली निकाली गई। यह वाहन रैली ठाकुरगंज चौराहे से लेकर हजरतगंज स्थित दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर तक निकाली गई। शिवसेनिकों ने श्री हनुमान मंदिर पर हवन - पूजन किया और अयोध्या में शहीद हुए कारसेवकों की आत्मा की शांति के लिए अपील की।

महानगर प्रमुख अभिषेक अग्निहोत्री द्वारा कहा गया कि यदि भाजपा राम मंदिर की बात नहीं करना चाहती है तो फिर वह उत्तरप्रदेश की सत्ता में आने का ख्वाब छोड़ दे। गौरतलब है कि शिवसेना द्वारा यूपी की 200 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी की गई है। शिवसेनिकों ने कहा है कि यदि वे सरकार में भागीदारी करेंगे तो फिर मंदिर निर्माण के लिए प्रयास करेंगे। शिवसेनिकों का कहना था कि बहुसंख्यक हिंदूओं की भावना से खिलवाड़ करने से परहेज करना चाहिए।

नगरीय चुनाव में बीजेपी-शिवसेना को सफलता

नोटबंदी को लेकर शिवसेना ने लिखी जेटली को चिठ्ठी

 

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -