नवरात्र के 6वें दिन करें मां कत्यायनी का पूजन, जानिए जन्मकथा

इस समय शारदीय नवरात्र चल रहे हैं और नवरात्र के 6वें दिन मां दुर्गा के छठे स्वरूप मां कत्यायनी का पूजन किया जाता है. वहीं नवरात्र की षष्ठी तिथि 4 अक्टूबर को सुबह 09 बजकर 35 मिनट तक रहेगी. ऐसे में हम आपको बता दें कि कल यानी 4 अक्टूबर को मां दुर्गा के कात्यायनी स्वरूप की पूजा की जायेगी और माता कात्यायनी मन की शक्ति की देवी है और माता कात्यायनी की उपासना से सभी इन्द्रियों को वश में किया जा सकता है. कहा जाता है ऋषि कात्यायन के यहां जन्म लेने के कारण इन्हें कात्यायनी के नाम से जाना जाता है.

जी हाँ, कात्यायनी मां के इस रूप के प्रकट होने की बड़ी ही अद्भुत कथा है और आज हम आपको बताने जा रहे हैं इस कथा के बारे में. इस कथा के अनुसार देवी के इसी स्वरूप ने महिषासुर का मर्दन किया था और देवीभाग्वत पुराण के अनुसार देवी के इस स्वरूप की पूजा गृहस्थों और विवाह के इच्छुक लोगों के लिए बहुत ही फलदायी है.

कथा - पुराणों के अनुसार मां दुर्गा ने कात्यायन ऋषि के घर उनकी पुत्री के रूप में जन्म लिया, इस कारण इनका नाम कात्यायनी पड़ गया. मां कात्यायनी अमोद्य फलदायिनी हैं. यह दानवों, असुरों और पापी जीवधारियों का नाश करने वाली देवी कहलाती हैं. आश्विन कृष्ण चतुर्दशी को जन्म लेकर शुक्ल सप्तमी, अष्टमी तथा नवमी तक तीन दिन उन्होंने कात्यायन ऋषि की पूजा को ग्रहण कर मां ने दशमी के दिन महिषासुर की वध किया. कहते हैं मां कात्यायनी अमोघ फलदायिनी मानी गई हैं और इसी के साथ ही शिक्षा प्राप्ति के क्षेत्र में प्रयासरत भक्तों को माता की अवश्य उपासना करनी चाहिए.

यहाँ देखिए आज का शुभ मुहूर्त और पंचांग

नवरात्र स्पेशल: व्रत के दौरान दिखे ये संकेत तो हो जाए सावधान

नवरात्रि के पांचवे दिन करें माँ स्कन्दमाता के कवच और स्त्रोत का पाठ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -