शरद पूर्णिमा पर भूलकर भी न करें ये काम, वरना हो सकते है कंगाल

आज कही जगहों पर शरद पूर्णिमा का त्यौहार मनाया जाएगा। इस दिन लोग उपवास रखते हैं तथा ड्राय फ्रूट्स वाला दूध या खीर बनाकर चांद के प्रकाश में रखते हैं। परम्परा है कि शरद पूर्णिमा के दिन आसमान से अमृत बरसता है। लिहाजा इस खीर अथवा दूध का सेवन करने से स्वास्थ्य अच्छा होता है तथा मनुष्य दीघार्यु होता है। सनातन धर्म में शरद पूर्णिमा को बेहद महत्वपूर्ण माना गया है इसलिए इस दिन को लेकर कुछ आवश्यक नियम बताए गए हैं। इसके अनुसार, शरद पूर्णिमा के दिन कुछ ऐसे काम करने की मनाही की गई है, जो अशुभ होते हैं।  

ऐसे काम करने से आती है गरीबी:- 

- शरद पूर्णिमा के दिन गलती से भी नॉनवेज तथा शराब का सेवन न करें। ऐसा करना आपके स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकता है। 
- शरद पूर्णिमा को बेहद पवित्र दिन माना गया है लिहाजा इस दिन ब्रह्मचर्य का पालन करें। 
- शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा का प्रभाव काफी तेज होता है। क्योकि चंद्रमा का प्रभाव मन पर होता है इसलिए इस दिन क्रोध होने या आक्रामक होने से बचें क्‍योंकि पहले ही चंद्रमा की वजह से व्यवहार में उत्तेजना या भावुकता अधिक रहती है। इस स्थिति में कोई गलत कार्य होने की आशंका बेहद अधिक रहती है। 
- शरद पूर्णिमा के दिन लेन-देन न करें। वहीं इस वर्ष शरद पूर्णिमा मंगलवार के दिन है। इस दिन को लेन-देन के लिए अच्‍छा नहीं माना जाता है। इन दोनों वजहों के चलते आज उधार दिए गए या लिए गए रूपये से धन हानि होने के प्रबल योग बनते हैं। 
- शरद पूर्णिमा के दिन काले कपड़े नहीं धारण करने चाहिए। 
- शरद पूर्णिमा को धन की देवी मां लक्ष्‍मी की पूजा के लिए बेहद शुभ माना गया है इसलिए आज सूर्यास्त के पश्चात् दान न करें। ऐसा करने से दरिद्रता आती है। 
- इसके अतिरिक्त आज महिलाएं सूर्यास्त के पश्चात् बाल न संवारें। इसे भी बहुत अशुभ माना गया है। 

शरद पूर्णिमा पर क्यों बनाई जाती है खीर, जानिए वैज्ञानिक महत्व

19 या 20 अक्टूबर, आखिर कब मनाई जाएगी शरद पूर्णिमा ? जानिए यहाँ

इन राशि के लोगों को लाभ देगा रविवार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -