शैलेश लोढ़ा शायरी: आदमी बन जो धरा का भार कंधो पर उठाये, बाँट दे जग को ना अमृत बूँद अधरों पर लगाये...

1- आदमी बन जो धरा का भार कंधो पर उठाये

बाँट दे जग को ना अमृत बूँद अधरों पर लगाये

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -