टेढ़ा नजरिया: जानिए तम्बाकू के फायदे

आज विश्व तम्बाकू निषेध दिवस है, इसलिए तम्बाकू और उससे जुड़े उत्पादों के कुछ दुष्प्रभाव... माफ कीजिएगा फायदे, आपके समक्ष रखना मेरा फ़र्ज़ है, वैसे तो मैं जानता हूँ कि आप समझदार हैं, सब कुछ जानते हैं लेकिन फिर भी बताना तो पड़ेगा ही तम्बाकू निषेध दिवस जो ठहरा, एक और वही पुराना प्रयास है सोने का नाटक कर रहे लोगों को जगाने का, कि शायद उनकी चिरनिद्रा टूट जाए और वे धुंए के आगोश के पीछे छिपी खूबसूरत तस्वीर देख सकें. हां तो भैया शुरू करते हैं..

प्रति वर्ष पांच लाख से अधिक लोग तम्बाकू के प्रभाव से मरते हैं – एचआईवी/एड्स, मलेरिया एवं क्षयरोग को मिलाकर, उससे मरने वाले की संख्या काफी अधिक है, चलो मौत तो फिर भी ठीक है, लेकिन दर्दनाक और लाचार मौत. जो खुद को तो मारती ही है, लेकिन पुरे परिवार पर भी पैसों और चिंता के बोझ तले दबा देती है. तम्बाकू का ही एक रूप होता है गुटखा, जिसे कत्था और सुपारी को मिलाकर तैयार किया जाता है. इसके साथ ही एक ऐसा जहरीला कैमिकल मिलाया जाता है जो धीरे-धीरे असर करता हुआ मुंह से लेकर बॉडी दूसरे जरूरी अंग पर प्रभाव करता है.

अगर महिलाऐं इसका सेवन करती हैं तो इससे उनका हश्र तो पुरुषों जैसा ही होता है, लेकिन अगर वे गर्भवती हों, तो अपने बच्चे को भी बिमारियों के दलदल में खींच लेती हैं. वहीं पुरुषों में आजकल जो शुक्राणुओं की कमी पाई जाती है, उसका सबसे महत्वपूर्ण कारण धूम्रपान ही है. धूम्रपान से शुक्राणुओं मरने लगते हैं और एक समय आता है जब इंसान बाप बनने लायक नहीं रह जाता. फिर चिंता और तनाव के चलते वो नशे की तरफ और अधिक अग्रसर होता है. नतीजा....... खैर मैं तो भूल ही गया था कि आप सब समझदार है और समझदारों को क्या समझाना... चलता हूँ.. जय राम जी की..  

14 प्रतिशत लोगों ने तंबाकू का सेवन छोड़ा

विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर विशेष

तम्बाकू सेवन छोड़ने के कुछ आसान तरीके

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -