भारत के इस गांव में होती हैं चमगादड़ों की पूजा

भारत के इस गांव में होती हैं चमगादड़ों की पूजा

दुनियाभर में कोरोना वायरस नामक महामारी ने खौफ का माहौल बना दिया हैं. इस बीमारी से पूरी दुनिया में अब तक 24 हजार से भी ज्यादा लोगों की मौत हो गई है जबकि संक्रमितों की संख्या पांच लाख से भी अधिक हो गई है. लोग इस बीमारी के फैलने की असली वजह चमगादड़ों को मान रहे हैं, लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि बिहार में एक ऐसा गांव है, जहां लोग चमगादड़ों की पूजा करते हैं. उनका मानना है कि ये चमगादड़ उन्हें महामारी से बचते हैं. इस गांव में इनकी पूजा की जाती हैं.    

इस गांव का नाम है सरसई (रामपुर रत्नाकर), जो वैशाली जिले के राजापाकड़ प्रखंड में पड़ता है. यहां के लोग चमगादड़ों को 'ग्राम देवता' के रूप में मानते हैं और उनकी पूजा करते हैं. वह इन्हें संपन्नता का प्रतीक मानते हैं. उनका मानना है कि जिस इलाके में चमगादड़ निवास करते हैं, वहां धन की कोई कमी नहीं होती. सरसई गांव के लोगों का यह भी मानना है कि यहां निवास करने वाले चमगादड़ उनके पूरे गांव की रक्षा करते हैं और साथ ही उनके ऊपर किसी तरह की विपत्ति नहीं आने देते हैं. यहां तक कि ये उन्हें किसी भी तरह की महामारी से भी बचाते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि गांव में कोई भी शुभ कार्य करने से पहले लोग चमगादड़ों की पूजा करते हैं, ताकि सब सही-सही से हो सके.

इस गांव में सैकड़ों की संख्या में ये चमगादड़ एक तालाब के किनारे पीपल के पेड़ पर और आसपास के अन्य पेड़ों पर निवास करते हैं. इन चमगादड़ों की वजह से ही यह गांव पूरे इलाके में मशहूर है और लोग दूर-दूर से इन्हें देखने के लिए आते हैं. गांव वालों का कहना है कि अगर रात में कोई बाहरी व्यक्ति इस गांव में आता है तो ये चमगादड़ शोर मचाने लगते हैं जबकि गांव वालों के आने पर ये शांत रहते हैं.

भारत की एक ऐसी रहस्यमयी झील, जिसका रहस्य आज तक कोई नहीं है सुलझा पाया

इस तरीके से कोरोना का मरीज 50,000 से भी ज्यादा लोगों कर सकता है संक्रमित

फ्रांस की इस जगह पर कोई 100 साल से नहीं गया, जहां जानवरों के जाने पर भी है पाबंदी