रियासतों को किया एक और नए भारत का हुआ निर्माण

नई दिल्ली। स्वाधीन भारत जो कि कई छोटी - छोटी रियासतों में बंटा था। जिसमें अखंड राष्ट्र की कल्पना करना और किसी विदेशी शक्ति से देश की भविष्य में रक्षा करने की बात करना भी बड़ा मुश्किल था। मगर इस कार्य को भारत के स्वाधीनता संग्राम सेनानी सरदार वल्लभ भाई पटेल ने बड़े उत्साह के साथ किया। दरअसल वे स्वाधीन भारत के प्रथम गृहमंत्री थे और उन्हें उपप्रधानमंत्री भी बनाया गया था।

सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर को तत्कालीन बाॅम्बे प्रेसीडेंसी के नडियाद गांव में हुआ था। पटेल लेवा पाटीदार कृषक परिवार से थे। उनके पिता का नाम झवेरभाई पटेल और माता का नाम लाडबा देवी पटेल था। उनके और भी भाई थे जिनमें सोमाभाई, नरसीभाई, विट्ठल भाई उनसे बड़े थे।

सरदार पटेल ने स्वाध्याय किया था लेकिन वे बेरिस्टर बनने लंदन गए थे। इसके बाद वे अहमदाबाद में वकालत करने लगे उनके जीवन पर महात्मा गांधी के विचारों का खासा प्रभाव था। इसके साथ ही वे स्वाधीनता के आंदोलन में सक्रिय हो गए। उनके द्वारा खेड़ा संघर्ष और बारडोली सत्याग्रह में की गई भागीदारी को महत्वपूर्ण माना जाता है। उन्होंने अंग्रेजों से पीड़ित किसानों को जागृत किया। स्वाधीन भारत में उन्होंने रियासतों को एक किया और लोकतांत्रिक व प्रजातांत्रिक गणराज्य की संकल्पना को पूर्ण किया। 15 अगस्त 1950 को उन्होंने 75 वर्ष की आयु में अंतिम सांस ली।

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -