'जाटों और मुसलमानों कसम खाओ..', अमित शाह के कैराना दौरे से पहले सपा का 'कसम प्लान'

लखनऊ: यूपी विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान होने के बाद तमाम पार्टियों में सियासी सरगर्मी तेज हो गई है। केंद्रीय गृह व सहकारिता मंत्री अमित शाह शनिवार को कैराना से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के चुनाव अभियान का आगाज़ कर रहे हैं। अमित शाह, कैराना में सपा सरकार के दौरान पलायन कर गए और योगी राज में लौटकर आए व्यापारियों व परिवारों से मुलाकात करेंगे। इस पर समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रवक्ता फखरुल हसन चांद ने अमित शाह के कैराना दौरे से पहले Koo किया है।    

 

उन्होंने लिखा है कि,  'पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट और मुसलमान कसम खाओ कि चुनाव में किसान, रोज़गार, मंहंगाई, विकास पे ही वोट देंगे। दिल्ली से लोग आ रहे है हिन्दू-मुसलमान की बात करने, लेकिन तुम अपने मुद्दों से भटकना नही, दिल्ली से आने वालों को करारा जवाब देना।' अमित शाह के दौरे को लेकर जिला अध्यक्ष सतेंद्र तोमर ने बताया कि गृह मंत्री कैराना आएंगे और कैराना के मोहल्ला गुंबद में मौजूद 70 वर्ष पुरानी साधू स्वीट्स के मालिक राकेश गर्ग और अन्य व्यापारियों से मिलेंगे। उन्होंने बताया कि राकेश गर्ग सन 2014 में बदमाशों द्वारा रंगदारी मांगने के बाद खौफ में पलायन कर अंबाला चले गए थे। अमित शाह अन्य दो तीन व्यापारियों से भी उनके आवास पर ही मिलेंगे।  

बता दें कि समाजवादी पार्टी (सपा) ने नाहिद हसन को शामली जिले की कैराना सीट से दोबारा उम्मीदवार बनाया है।  नाहिद हसन के खिलाफ पहले से ही पुलिस में कई आपराधिक केस भी दर्ज हैं। भाजपा ने सपा द्वारा नाहिद हसन को टिकट दिए जाने के फैसले को सपा का "जिन्नावाद" करार दिया है, साथ ही उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि कैराना में पलायन के मास्टर माइंड नाहिद हसन को सपा ने अपना प्रत्याशी बनाया है।

NCP सांसद अमोल कोल्हे ने फिल्म में निभाई 'गोडसे' की भूमिका, मचा बवाल

ओडिशा पंचायत चुनाव: 2.29 लाख से अधिक नामांकन पत्र दाखिल

कांग्रेस ने जितिन प्रसाद को भाजपा में जाने से क्यों नहीं रोका ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -