Share:
1 दिसंबर से बदल जाएंगे सिम खरीदने के नियम, फर्जी कॉल रोकने के लिए सरकार ने उठाए ये कदम
1 दिसंबर से बदल जाएंगे सिम खरीदने के नियम, फर्जी कॉल रोकने के लिए सरकार ने उठाए ये कदम

फर्जी कॉल के बढ़ते खतरे को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम में, सरकार ने सिम कार्ड खरीदने के नियमों में कई बदलावों की घोषणा की है। 1 दिसंबर से लागू होने वाले इन उपायों का उद्देश्य सुरक्षा बढ़ाना और धोखाधड़ी गतिविधियों के लिए मोबाइल कनेक्शन के दुरुपयोग को कम करना है।

1. पृष्ठभूमि की जांच तेज की गई

सरकार ने नए सिम कार्ड खरीदने वाले व्यक्तियों की पृष्ठभूमि की जांच तेज करने का निर्णय लिया है। यह कदम यह सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है कि केवल वैध उपयोगकर्ता ही मोबाइल कनेक्शन प्राप्त करें।

2. बायोमेट्रिक सत्यापन अधिदेश

बड़े बदलावों में से एक में नया सिम कार्ड खरीदने के इच्छुक व्यक्तियों का अनिवार्य बायोमेट्रिक सत्यापन शामिल है। यह सुरक्षा की एक अतिरिक्त परत जोड़ता है, जिससे अनधिकृत उपयोगकर्ताओं के लिए मोबाइल कनेक्शन प्राप्त करना कठिन हो जाता है।

3. पता सत्यापन आवश्यकताएँ

प्रमाणीकरण प्रक्रिया को और मजबूत करने के लिए, खरीदारों को अब अतिरिक्त पता सत्यापन दस्तावेज़ प्रदान करने की आवश्यकता होगी। इस उपाय का उद्देश्य सिम कार्ड प्राप्त करने के लिए फर्जी पहचान के इस्तेमाल की संभावना को कम करना है।

4. थोक सिम खरीद पर प्रतिबंध

नाजायज उद्देश्यों के लिए सिम कार्ड के बड़े पैमाने पर अधिग्रहण को रोकने के लिए, सरकार ने थोक खरीद पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह कदम उन संस्थाओं को लक्षित करता है जो धोखाधड़ी गतिविधियों के लिए कई कनेक्शनों का फायदा उठा सकती हैं।

5. उल्लंघन के लिए कठोर दंड

अधिकारियों ने नए नियमों का उल्लंघन करने वालों के लिए सख्त दंड लागू करने पर जोर दिया है। इसमें भारी जुर्माना और, गंभीर मामलों में, धोखाधड़ी प्रथाओं में शामिल व्यक्तियों या व्यवसायों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शामिल है।

6. IMEI नंबरों की बेहतर ट्रैकिंग

ट्रैसेबिलिटी और जवाबदेही बढ़ाने के लिए, सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय मोबाइल उपकरण पहचान (आईएमईआई) नंबरों की ट्रैकिंग में सुधार के लिए उपाय लागू किए हैं। इससे नकली या अपंजीकृत उपकरणों की पहचान करने और उनके उपयोग को रोकने में सहायता मिलेगी।

7. दूरसंचार प्रदाताओं के साथ सहयोग

दूरसंचार सेवा प्रदाता इन परिवर्तनों को निर्बाध रूप से लागू करने के लिए सरकार के साथ सक्रिय रूप से सहयोग कर रहे हैं। इस साझेदारी का उद्देश्य नए नियमों का सुचारू परिवर्तन और प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित करना है।

8. जन जागरूकता अभियान

जनता को परिवर्तनों के बारे में सूचित रखने के लिए सरकार व्यापक जागरूकता अभियान चला रही है। ये पहल उपयोगकर्ताओं को संशोधित सिम कार्ड नियमों और नई आवश्यकताओं के पालन के महत्व के बारे में शिक्षित करेगी।

9. वास्तविक उपयोगकर्ताओं के लिए सरल प्रक्रिया

जबकि नए नियम सुरक्षा की परतें जोड़ते हैं, सरकार आश्वासन देती है कि वास्तविक उपयोगकर्ताओं के लिए प्रक्रिया सुव्यवस्थित रहेगी। उपयोगकर्ता की सुविधा के साथ उन्नत सुरक्षा उपायों को संतुलित करने का प्रयास किया गया है।

10. सतत निगरानी एवं अनुकूलन

सरकार इस बात पर जोर देती है कि ये उपाय स्थिर नहीं हैं और उभरती चुनौतियों से निपटने के लिए इनकी लगातार निगरानी की जाएगी और इन्हें अपनाया जाएगा। इस गतिशील दृष्टिकोण का उद्देश्य धोखाधड़ी गतिविधियों में शामिल होने का प्रयास करने वालों द्वारा उपयोग की जाने वाली विकसित रणनीति से आगे रहना है। अंत में, सिम कार्ड नियमों को संशोधित करने का सरकार का निर्णय फर्जी कॉल की लगातार समस्या से निपटने के लिए एक सक्रिय दृष्टिकोण को दर्शाता है। इन उपायों को लागू करके, उनका लक्ष्य एक अधिक सुरक्षित मोबाइल संचार वातावरण बनाना है, जिससे उपयोगकर्ताओं को धोखाधड़ी गतिविधियों के हानिकारक प्रभावों से बचाया जा सके।

बिना बाजुओं के भी तीरंदाज शीतल देवी चुनी गई एशिया की सर्वश्रेष्ठ युवा एथलीट

टीम इंडिया के हेड कोच के तौर पर आगे भी काम करते नजर आएँगे राहुल

"वे इंसान हैं, रोबोट नहीं..'', भारत में T20 सीरीज खेल रहे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के लिए बोले पैट कमिंस

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -