टिकट न मिलने पर दहाड़े मारकर रोया नेता

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा में गठबंधन की राजनीति के बीच कई नेताओं के टिकट कट गए हैं। पार्टियां टिकट विरतरण के कार्य में अपने नेताओं को सीमित स्थान दे पा रही है। इसमें पार्टी के आला नेता अपनी असमर्थता जता रहे हैं लेकिन टिकट न मिलने से मायूस नेता खुद को उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। ऐसा ही हाल राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के नेता अशोक गुप्ता के साथ हुआ। दरअसल यह नेता टिकट कट जाने पर दुखी हो गए और जोर से रोने लगे। साथी कार्यकर्ताओं ने लगभग नतमस्तक हुए इस नेता को उठाया और समझाईश देकर सभा स्थल से बाहर भेजा। 

मिली जानकारी के अनुसार अशोक गुप्ता ने पार्टी के प्रमुख उपेंद्र कुशवाह पर भाई - भतीजावाद का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि उन्होंने घर बेचकर 50 लाख रूपए खर्च किए थे और पार्टी के हित में लगाए थे मगर अब वे बर्बाद हो गए। टिकट न मिलने पर अशोक गुप्ता ने कहा कि नटकरियागंज में पार्टी प्रमुख कुशवाह ने अपने समधी को ही टिकट दे दिया यहां संत सिंह कुशवाह को मैदान में उतारा गया है। उन्होंने कहा कि कुशवाह पर विश्वास कर मैंने घर बेच दिया लेकिन कुशवाह ने ही धोखा दिया।

उनका कहना है कि इस सीट से 1990 से अब तक वैश्य ही जीता है। उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ने की बात कही। इस मामले में उपेंद्र कुशवाह ने हंगामा करने वाले को पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव का एजेंट कहा। उन्होंने कहा कि जिसने हंगामा किया वह बाहरी एजेंट है। पार्टी सभी वर्गों को अवसर दे रही है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -