थ्रेडिंग के बाद होने वाले रैशेस से यूँ करे बचाव

थ्रेडिंग के बाद होने वाले रैशेस से यूँ करे बचाव

वैक्सिंग जैसे विकल्प की तुलना में थ्रेडिंग एक बेहतर विकल्प है क्योंकि यह त्वचा की परत को दूर नहीं करती। थ्रेडिंग अपने चेहरे से अनचाहे बालों को हटाने का एक शानदार तरीका है। थ्रेडिंग लगभग सभी प्रकार की त्वचा पर की जाती है. कभी-कभी खासकर त्वचा पर थ्रेडिंग करवाने के बाद पिंपल्स, चकत्ते या त्वचा में लालिमा आ जाती है। इससे छुटकारा पाने के कुछ टिप्स आज आपको देते हैं. थ्रेडिंग करवाने के बाद 12 से 24 घंटे के बीच थ्रेडि़ग वाले हिस्से को न छुएं। ऐसा करने से वहां पिंपल्स, चकत्ते या जलन पैदा हो सकती है।

अपने चेहरे पर थ्रेडिंग करवाने के बाद, उस हिस्से में कम से कम 12 घंटे की अवधि के दौरान एसिड की मौजूदगी वाले कॉस्मेटिक उत्पाद जैसे क्लींजर और मॉश्चराइचर न लगाये। बाल हटाने के बाद इन्हें इस्तेमाल करने से प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो सकती है, खासकर अगर आपकी संवेदनशील त्वचा है तो। थ्रेडिंग के तुरंत बाद किसी भी प्रकार के स्टीम ट्रीटमेंट से बचें। आप अपना चेहरा धोना चाहती हैं तो गुलाब जल से धोयें। यह प्राकृतिक जल, आईब्रो पर लगने वाले कट को सही कर देता है और दाने व पिंपल भी सही हो जाते हैं।

थ्रेडिंग करवाने से पहले चेहरे को धोकर अच्छे से पोंछ लें। त्वचा को गुनगुने पानी से धोने पर ज्यादा फायदा होता है। इससे थ्रेडिंग करवाते समय दर्द कम होगा और आप फ्रेश फील करेगी। एक कॉटन का साफ कपड़ा लेकर अपने चेहरे को हल्के हाथों से पोंछ लें। क्योंकि रगड़कर पोंछने से आपकी त्वचा ड्राई हो सकती है।

क्या आप जानते है? मलाई भी है आपकी सेहत के लिए फायदेमंद