चेहरे पर ऐसे लगाएं सनस्क्रीन, काली नहीं होगी स्किन
चेहरे पर ऐसे लगाएं सनस्क्रीन, काली नहीं होगी स्किन
Share:

सूर्य से पराबैंगनी (यूवी) किरणों के हानिकारक प्रभावों के कारण अपनी त्वचा की देखभाल की दिनचर्या में सनस्क्रीन को शामिल करना सर्वोपरि है। ये किरणें त्वचा में गहराई तक प्रवेश कर अंदर से नुकसान पहुंचाती हैं। इन यूवी किरणों से बचाव के लिए सनस्क्रीन लगाने की दृढ़ता से सलाह दी जाती है। हालाँकि, सनस्क्रीन के उपयोग पर अलग-अलग राय हैं, कुछ का मानना है कि यह त्वचा को काला और बेजान बना देता है। लेकिन क्या सचमुच ऐसा है? आइए जानें कि क्या सनस्क्रीन वास्तव में त्वचा को काला कर देती है और इसे लगाने का सही तरीका क्या है।

क्या सनस्क्रीन से त्वचा का रंग काला पड़ जाता है?
आम धारणा के विपरीत, सनस्क्रीन स्वयं त्वचा को काला नहीं करता है। कुछ सनस्क्रीन फॉर्मूलेशन में मौजूद सफेद कास्ट के कारण यह अस्थायी रूप से काला दिखाई दे सकता है। यदि सनस्क्रीन लगाने के बाद आपकी त्वचा काली दिखती है, तो चिंता न करें; यह प्रभाव केवल अस्थायी होता है और थोड़े समय के लिए रहता है।

सनस्क्रीन लगाने का सही तरीका
सनस्क्रीन लगाने से पहले अपने चेहरे को मॉइस्चराइज़ करें। मॉइस्चराइजर और सनस्क्रीन लगाने के बीच कम से कम 15 से 20 मिनट का अंतर रखें। बाहर निकलने से कम से कम तीस मिनट पहले सनस्क्रीन लगाना याद रखें। इसके अतिरिक्त, गर्दन, कान और हेयरलाइन जैसे क्षेत्रों पर सनस्क्रीन लगाना न भूलें। यदि आप लंबे समय तक बाहर रह रहे हैं, तो हर दो घंटे में दोबारा सनस्क्रीन लगाएं।

सनस्क्रीन और उसके प्रभावों को समझना
सनस्क्रीन अपने सक्रिय अवयवों के आधार पर, यूवी विकिरण को अवशोषित या प्रतिबिंबित करके काम करता है। रासायनिक सनस्क्रीन यूवी किरणों को अवशोषित करते हैं, जबकि भौतिक सनस्क्रीन उन्हें प्रतिबिंबित करते हैं। सफेद रंग अक्सर भौतिक सनस्क्रीन से जुड़ा होता है, जो जिंक ऑक्साइड या टाइटेनियम डाइऑक्साइड जैसे तत्वों की उपस्थिति के कारण होता है, जो त्वचा की सतह पर एक सुरक्षात्मक बाधा पैदा करते हैं। यह अवरोध यूवी किरणों को विक्षेपित करने में मदद करता है, जिससे त्वचा में उनका प्रवेश कम हो जाता है।

अपनी त्वचा के प्रकार के लिए सही सनस्क्रीन चुनना
सनस्क्रीन चुनते समय, अपनी त्वचा के प्रकार और अपनी किसी भी विशिष्ट चिंता पर विचार करें। यदि आपकी त्वचा तैलीय या मुँहासे-प्रवण है, तो बंद छिद्रों को रोकने के लिए हल्के, गैर-कॉमेडोजेनिक फ़ॉर्मूले का चयन करें। संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को जलन के जोखिम को कम करने के लिए "कोमल" या "संवेदनशील त्वचा के लिए" लेबल वाला सनस्क्रीन चुनना चाहिए। इसके अतिरिक्त, ब्रॉड-स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन की तलाश करें जो UVA और UVB दोनों किरणों से बचाते हैं।

धूप से सुरक्षा के लिए अतिरिक्त युक्तियाँ
सनस्क्रीन का उपयोग करने के अलावा, धूप से बचाव के अन्य उपायों को भी अपनी दिनचर्या में शामिल करें। लंबे समय तक बाहर रहने पर सुरक्षात्मक कपड़े पहनें, जैसे चौड़ी किनारी वाली टोपी और लंबी बाजू वाली शर्ट। जब भी संभव हो छाया की तलाश करें, खासकर सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच तेज धूप के समय। याद रखें कि यूवी किरणें बादलों में प्रवेश कर सकती हैं, इसलिए बादल वाले दिनों में भी धूप से बचाव आवश्यक है।

अंत में, सनस्क्रीन किसी भी त्वचा देखभाल दिनचर्या का एक महत्वपूर्ण घटक है, जो यूवी विकिरण के हानिकारक प्रभावों से सुरक्षा प्रदान करता है। हालांकि कुछ लोगों का मानना हो सकता है कि सनस्क्रीन त्वचा को काला कर देती है, लेकिन यह कुछ फॉर्मूलेशन में मौजूद सफेद कास्ट के कारण होने वाला एक अस्थायी प्रभाव है। यह समझकर कि सनस्क्रीन कैसे काम करती है और इसे सही तरीके से लगाने से, आप अपनी त्वचा की उपस्थिति से समझौता किए बिना धूप से सुरक्षा के लाभों का आनंद ले सकते हैं। इसलिए, अपने दैनिक त्वचा देखभाल आहार में सनस्क्रीन को शामिल करना न भूलें और सूरज को सुरक्षित रूप से अपनाएं।

भाषण देते वक़्त अचानक मंच पर बेहोश होकर गिरे नितिन गडकरी, जानिए अब कैसा है हाल?

ये आदतें बनती है रिश्ते में ब्रेकअप का कारण, आज ही छोड़े

गर्मियों में चबाना शुरू करें ये छोटी हरी पत्तियां, वजन घटाने से लेकर डायबिटीज तक में मिलेगा फायदा

रिलेटेड टॉपिक्स