आरबीआई ने किया जीरो बैलेंस बैंक अकाउंट्स से जुड़े नियमों में बड़ा बदलाव

Jun 11 2019 02:00 PM
आरबीआई ने किया जीरो बैलेंस बैंक अकाउंट्स से जुड़े नियमों में बड़ा बदलाव

नई दिल्ली : भारतीय रिजर्व बैंक ने जीरो बैलेंस बैंक अकाउंट्स से जुड़े नियम में बड़ा बदलव किया है। अब ऐसे बैंक खाताधारक चेकबुक तथा अन्य सुविधाएं ले सकेंगे। इन सुविधाओं के लिए बैंक खाताधारकों से कोई न्यूनतम बैलेंस रखने की शर्त नहीं लगा सकते हैं। अभी तक जीरो बैलेंस बैंक अकाउंट्स पर अतिरिक्त सुविधाएं देने पर उनको रेग्युलर सेविंग्स अकाउंट्स मान लिया जाता था। ऐसा होते ही इन बैंक खातों में न्यूनतम बैलेंस की शर्त लागू हो जाती थी। अब ऐसे अकाउंट वाले महीने में चाहे जितने बार पैसा जमा करें या चाहें तो चेक बुक ले सकते हैं।

विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के नुकसान को लेकर कुछ ऐसा बोले उद्योग मंत्री

इन नियमों के तहत दी छूट  

जानकारी के मुताबिक आरबीआई इन खातों को बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट अकाउंट्स कहता है और इसमें ही नियमों में छूट दी है। इन बैंक अकाउंट्स को आमतौर पर जीरो बैलेंस अकाउंट्स या नो-फ्रिल्स अकाउंट्स भी कहा जाता है। वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने लिए आरबीआई ने बैंकों से कहा है कि वे बीएसबीडीए को भी उसी तरह से कुछ न्यूनतम सुविधा बिना फीस के दें, जिस तरह की सुविधाएं सामान्य बचत खातों में दी जाती हैं। 

वैश्विक स्तर पर दाम बढ़ने से घरेलू बाजार में भी नजर आई सोने के दाम में बढ़ोतरी

इस तरह दिया गया निर्देश 

इसी के साथ आरबीआई ने अपने आदेश में कहा कि बैंक पहले बताई गई न्यूनतम सुविधाओं के बाद अतिरिक्त मूल्य वर्धित सुविधाएं देने के लिए स्वतंत्र हैं। इन सुविधाओं में चेक बुक शामिल है, जिसके लिए शुल्क नहीं लिए जा सकता हैं। निर्देश में कहा गया है कि इन सुविधाओं को देने के बाद बैंक अपने ग्राहकों पर खाते में न्यूनतम बैलेंस मेंटेंन करने की शर्त नहीं लगाएंगे।

डॉलर के मुकाबले 6 पैसे की मजबूती के साथ खुला रुपया

लगातार पांचवे दिन भी जारी है पेट्रोल-डीजल के दामों में गिरावट का सिलसिला

मानसून की आमद के साथ ही बाजार की शुरुआत में नजर आई बढ़त