राम मंदिर आस्था का मामला है न कि चुनावी मुद्दा

राम मंदिर आस्था का मामला है न कि चुनावी मुद्दा

मथुरा : विकास पर्व मना रही बीजेपी इसी बहाने उतर प्रदेश में चुनावी प्रचार अभियान शुरु कर चुकी है। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर आस्था का मामला है न कि यह चुनावी मुद्दा है। उन्होने कहा कि 1990 में भी राम मंदिर चुनावी मुद्दा नहीं था। बीजेपी नेता ने कहा कि 2017 में होने वाले यूपी विधानसभा चुनाव में राम मंदिर चुनावी मुद्दा नहीं होगा।

इससे पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई बीजेपी नेता भी इस बात को दोहरा चुके है। यमुना की सफाई के मामले में उन्होने कहा कि हम यमुना के प्रदूषण के बारे में तदर्थ व्यवस्था नहीं चाहते। इस दिशा में रचनात्मक एवं आवश्यक कार्य शुरू हो चुका है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी को शहंशाह कहे जाने पर रविशंकर ने कहा कि वे तो स्वयं को पहले दिन से ही जनता का ‘प्रधान सेवक’ कहते आए हैं।

उन्होने कहा कि आपको याद होगा पीएम ने पद संभालने के साथ ही स्पष्ट कर दिया था कि वो पीएम जरुर बन गए है, लेकिन वो जनता के प्रथम सेवक ही है। प्रसाद ने कहा कि यह तो कांग्रेसियों को सोचना चाहिए कि जहां एक परिवार के आगे सब नतमस्तक हो जाते हैं। सोनिया ने रायबरेली पहुंचकर पीएम को शहंशाह कहा था।