अहंकार से भरा हुआ है भाजपा का घोषणापत्र, मात्र एक आदमी की सोच का नतीजा - राहुल गाँधी

अहंकार से भरा हुआ है भाजपा का घोषणापत्र, मात्र एक आदमी की सोच का नतीजा - राहुल गाँधी

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव का दौर अब अपने अंतिम चरण में प्रवेश करने को पूरी तरह तैयार है, राजनितिक दलों ने इस चुनाव के लिए अपने अपने घोषणापत्र भी जारी कर दिए हैं। वहीं इन घोषणापत्रों को लेकर एक दुसरे पर आआप-प्रत्यारोप का सिलसिला भी शुरू हो गया है। इसी क्रम में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के घोषणापत्र को एक व्यक्ति की आवाज बताते हुए मंगलवार को दावा किया है कि इसे बंद कमरे तैयार किया गया है और इसमें दूरदर्शिता की कमी है।

गाँधीनगर लोकसभा सीट: गुलबर्ग सोसायटी दंगा के पीड़ित फिरोज खान, देंगे अमित शाह को टक्कर

राहुल ने यह दावा किया है कि उनकी पार्टी का घोषणापत्र काफी मंथन के बाद तैयार किया गया है और उसमें जनता की आकांक्षाओं और जरूरतों को ध्यान में रखा गया है। राहुल गाँधी ने ट्वीट किया है, 'कांग्रेस का घोषणापत्र विचार-विमर्श के जरिए तैयार हुआ। इसमें 10 लाख से ज्यादा भारतीय नागरिकों की आवाज शामिल है। यह एक समझदारी भरा और प्रभावशाली दस्तावेज है।' 

असम: बीफ बेचने के आरोप में मुस्लिम शख्स को भीड़ ने घेरा और फिर...

इसके साथ ही राहुल ने दावा किया किया है कि, 'भाजपा का घोषणापत्र बन्द कमरे में तैयार हुआ है। इसमें एक अलग-थलग पड़ चुके शख्स की आवाज़ है। यह अदूरदर्शी और अहंकार से भरा हुआ दस्तावेज़ है।' आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने सोमवार को 'संकल्प पत्र' के नाम से अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है। इसमें भाजपा ने राष्ट्रीय सुरक्षा पर बल देने के साथ आतंकवाद के विरुद्ध 'जीरो टॉलरेन्स' की प्रतिबद्धता दोहराई है। इसके साथ ही 60 वर्ष की आयु के बाद किसानों और छोटे दुकानदारों को पेंशन देने समेत कई वादे किए गए हैं। 

खबरें और भी:-

अवध की सीटों पर शाह की नजर, प्रबंधकों को दिया जीत का मंत्र

अदालत से आज़म खान को बड़ी राहत, शस्त्र लाइसेंस के निलंबन के आदेश का एक हिस्सा हुआ रद्द

राजस्थान से चुनाव लड़ रहे केंद्रीय मंत्रियों के लिए सीएम गेहलोत ने कही ऐसी बात