प्यार की परिभाषा

प्यार की परिभाषा

आज उसने मेरी जिंदगी की बात कर दी

अभी तो आई थी और जाने की बात कर दी

नाज है उसे अपने चेहरे पर

उसने शान पेसो की दिखाकर

जाहिर मेरी ओकात कर दी

जिसके लिए मेने दुनिया को ठुकराया है

आज उसने मुझे ठुकराकर सियासत अपने नाम कर दी

जिसे तुम प्यार करो वो मोहब्बत

जो तुम्हे चाहे वह क्या ?

जिसके लिए तुम रोये वो मोहब्बत

जो तुम्हारे लिए रोये वह क्या ?

तुम किसी के लिए तड़पे वो तन्हाई जो

तुम्हारे लिए हम  तड़पे उसका क्या?