राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जमैका की संसद की संयुक्त बैठक को संबोधित किया

नई दिल्ली:  भारत के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने 17 मई, 2022 को किंग्स्टन में संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित किया।

राष्ट्रपति ने इस अवसर पर कहा कि जमैका के गतिशील लोकतंत्र के नेताओं की दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के प्रतिनिधि के रूप में हुई बैठक को संबोधित करना उनके लिए सम्मान की बात है। उन् होंने कहा कि हमारे दोनों देश न केवल भारतीय डायस्पोरा और सांस् कृतिक संबंधों से जुड़े हुए हैं, बल्कि लोकतंत्र और स् वतंत्रता में हमारे साझा विश् वास से भी जुड़े हुए हैं। 

जमैका का संविधान इस सिद्धांत पर बनाया गया है कि सभी नागरिकों को समान रूप से बनाया गया है। हमारे संस्थापक पूर्वजों ने इस अवधारणा को साझा किया और सभी भारतीय नागरिकों के लिए व्यक्तिगत स्वतंत्रता की वकालत की। उन्होंने स्वतंत्रता, लोकतंत्र और समानता के आधार पर एक नए राष्ट्र का निर्माण किया। उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि हमने 'विविधता में एकता' का जश्न मनाना जारी रखा, जो जमैका के 'कई लोगों में से, एक लोगों में से' के आदर्श वाक्य के समान है।

जमैका अपने प्रचुर मात्रा में प्राकृतिक संसाधनों, रणनीतिक स्थिति, युवा आबादी और ऊर्जावान नेतृत्व के कारण और भी अधिक आर्थिक सफलता के लिए तैयार है, राष्ट्रपति ने कहा। यह CARICOM क्षेत्र में अपने नेतृत्व, अंतरराष्ट्रीय नियमों-आधारित व्यवहार और अधिक जिम्मेदारियों को लेने की उत्सुकता के कारण अन्य देशों के लिए एक पसंदीदा भागीदार है।

उन्होंने कहा कि दुनिया की कुछ महानतम अर्थव्यवस्थाओं के पास जमैका का रणनीतिक स्थान, साथ ही साथ अंग्रेजी बोलने वाले युवाओं का उज्ज्वल पूल, इसे "ज्ञान राजमार्ग" बनने और चौथी औद्योगिक क्रांति से लाभ उठाने का एक अच्छा अवसर प्रदान करता है। भारत जमैका के विजन 2030 का उद्देश्य अपने लोगों को सशक्त बनाना और अपनी अर्थव्यवस्था को बढ़ाते हुए एक सुरक्षित, एकजुट और न्यायसंगत समाज को बनाए रखना है।

ब्रिटेन के पाउंड में गिरावट के कारण ब्रिटेन की मुद्रास्फीति 40 साल के उच्च स्तर पर

अफगानिस्तान: तालिबान ने संयुक्त राष्ट्र की महिला कर्मचारियों को हिजाब पहनने का आदेश दिया

अमेरिका ने पाकिस्तान को अपनी अर्थव्यवस्था के पुनर्निर्माण में मदद करने का वादा किया

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -