बैठक में मुख्यमंत्रियों से बोले पीएम मोदी- इस राज्यों में टेस्टिंग बढ़ाने की है जरूरत

लखनऊ: भारत में COVID-19 के बढ़ते केसों के बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने सबसे अधिक प्रभावित आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब, बिहार, गुजरात, तेलंगाना तथा यूपी के चीफ मिनिस्टरों के साथ वर्चुअल बैठक की. इसके चलते प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिन प्रदेशो में टेस्टिंग रेट कम है, तथा जहां पॉजिटिविटी रेट अधिक है, वहां टेस्टिंग बढ़ाने की आवश्यकता है. विशेष रूप से बिहार, गुजरात, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल तथा तेलंगाना में जांचे बढ़ाने पर विशेष बल देने की बात इस बैठक में निकली है.

इस बैठक में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी तथा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सम्मिलित हुए. डिफेंस मिनिस्टर राजनाथ सिंह ने भी इस बैठक में हिस्सा लिया. इस वर्ष मार्च में प्रथम बार लॉकडाउन की घोषणा के पश्चात् पीएम मोदी ने COVID-19 वायरस की अवस्था को लेकर मुख्यमंत्रियों के साथ कई बैठक की थी.

प्रधानमंत्री मोदी ने बैठक में कहा कि यदि हम आरम्भ के 72 घंटों में ही केसों की पहचान कर लें, तो ये संक्रमण काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है. इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि संक्रमित व्यक्ति के कांटेक्ट में आने वाले सभी लोगों का 72 घंटे के अंदर परीक्षण किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा अब तक का हमारा एक्सपीरियंस है कि COVID-19 के विरुद्ध कंटेनमेंट, कांटेक्ट ट्रेसिंग तथा सर्विलांस, सबसे प्रभावी हथियार है. इसी के साथ कोरोना से निपटने के लिए हर संभव प्रयास किये जा रहे है.

कब्रिस्तान में कोरोना मरीजों को नहीं मिली दो गज जमीन

उत्तर प्रदेश: कोरोना पर नियंत्रण के लिए योगी सरकार ने बनाई नई रणनीति

यूपी में हुई सुदीक्षा की मौत पर मायावती ने की मांग, कहा- तत्काल लिया जाए एक्शन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -