सबसे बड़े खुलासे में फंसे सैंकड़ो दिग्गज, मोदी ने कहा-मामले की पूर्ण जाँच हो

बीजिंग : टैक्स हैवन के नाम से प्रसिद्ध पनामा की लॉ फर्म मोसेक फोंसेका से दस्तावेज लीक होने के साथ ही कई दिग्गजों के नाम भी इस मामले में लिप्त नजर आने लगे है. जहाँ एक तरफ कल पेश हुई रिपोर्ट में यह देखने को मिला कि यहाँ रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन के करीबि‍यों, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति होस्नी मुबारक, सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद, पाकिस्तान की पूर्व पीएम बेनजीर भुट्टो, अमिताभ बच्चन, ऐश्वर्या राय बच्चन, डीएलफ के मालिक केपी सिंह और गौतम अडानी के बड़े भाई विनोद अडानी और मशहूर फुटबॉलर लियोनेल मेसी का नाम भी सामने आया है.

तो वहीँ अब यह बात भी सामने आ रही है कि चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ ही यहाँ शीर्ष कम्युनिस्ट पदाधिकारियों पर भी अपने धन को छिपाने को लेकर विदेश स्थित कर छूट स्थलों का उपयोग करने का आरोप लगाया गया है. जबकि साथ ही यह भी देखने को मिल रहा है कि सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी की सबसे मजबूत इकाई पोलित ब्यूरो स्थायी समिति के करीब 8 मौजूदा या पूर्व सदस्यों के नाम भी इस लीक दस्तावेज में नजर आ रहे है.

गौरतलब है कि मोजैक फोनसेका से लीक 1. 15 करोड़ दस्तावेजों की जांच किए जाने के बाद ही विश्वभर से कई बड़ी हस्तियों के नाम सामने आ रहे है. बताया जा रहा है कि इन दस्तावेजों में शी के एक रिश्तेदार देंग जियागुई का भी नाम शामिल है. यहाँ तक की यहाँ के पूर्व प्रधानमंत्री ली फंग की बेटी का नाम भी दस्तावेजों में शामिल बताया जा रहा है.

जबकि मामले में यह बात भी सुनने को मिली है कि आईसलैंड के प्रधानमंत्री ने यह कहा है कि लीक दस्तावेजों में उनका रिश्ता एक विदेशी कंपनी से बताया जा रहा है जिसको लेकर वह इस्तीफा पेश नहीं करने वाले है. देखने को यह मिल रहा है कि कई बड़े दिग्गजों ने इस मामले की जाँच किए जाने को लेकर अपना रुख भी कड़ा किया है. मामले में ही यह बात भी देखने को मिल रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सूचना के सामने आने के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली से बात की और उन्हें मामले की पूर्ण जाँच करने को कहा है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -