फाइजर, बायोएनटेक नए वैरिएंट के खिलाफ टीके की प्रभावकारिता पर सुनिश्चित नहीं हैं

वाशिंगटन: दो प्रमुख दवा कंपनियों फाइजर और बायोएनटेक ने एक बयान जारी कर कहा है कि उन्हें संदेह है कि क्या उनके टीके ओमाइक्रोन संस्करण के रूप में ज्ञात SARS-CoV-2 वायरस का इलाज करने में मदद करेंगे या नहीं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा शुक्रवार को 'बी.1.1.1.529' को 'चिंता के रूप' के रूप में मान्यता दिए जाने के बाद, नोवेल कोरोनावायरस के एक नए, अधिक घातक तनाव ने अब फिर से दुनिया भर में खतरे की घंटी बजा दी है। इस नए संस्करण का प्रोटीन, जिसे 'ओमाइक्रोन' (ग्रीक) कहा जाता है, को उपलब्ध कोविड -19 टीकाकरण के खिलाफ अप्रभावी माना जाता है।

स्पुतनिक के अनुसार, कंपनी ने "100 दिनों के भीतर" इस ​​संस्करण के खिलाफ एक नया, अधिक शक्तिशाली टीकाकरण विकसित करने का वादा किया है। कंपनियों ने जारी एक बयान में कहा, "अगर वैक्सीन-एस्केप वैरिएंट होता है, तो फाइजर और बायोएनटेक लगभग 100 दिनों में उस किस्म के खिलाफ एक वैक्सीन विकसित करने और तैयार करने में सक्षम होने का अनुमान लगाते हैं।" 

फाइजर और बायोएनटेक ने कहा है कि नया संस्करण "पहले से खोजे गए लोगों से स्पष्ट रूप से अलग है," और आने वाले हफ्तों में 'ओमाइक्रोन' पर अधिक डेटा प्राप्त किया जाएगा। दवा कंपनियों ने इस बात पर जोर दिया कि उन्होंने महीनों पहले अपने टीकों को विकासशील रूपों के अनुकूल बनाने पर शोध शुरू किया था, और यह कि टीका अब प्रशासन के छह सप्ताह के भीतर समायोजित हो सकता है।

बड़े पर्दे पर पहली बार नजर आएंगी पिता-बेटी की जोड़ी, एक्ट्रेस ने फोटो शेयर कर लिखा इमोशनल पोस्ट

मुझे भी अनिल देशमुख की तरह फंसाने की कोशिश हो रही है: नवाब मलिक

भारतीय सिनेमा में अपना जादू नहीं चला पाई Eternals

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -