Share:
पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने बताया कथावाचक नहीं होते तो क्या होते?
पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने बताया कथावाचक नहीं होते तो क्या होते?

छतरपुर: मध्य प्रदेश में स्थित छतरपुर जिले में बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री ने हाल ही में ने अपने एक इंटरव्यू में कई खुलासे किए है। धीरेंद्र शास्त्री ने बताया कि उनका बचपन से एक ही सपना था कि वो एक सिपाही बनें और देश की सेवा करें। आज भी अगर उन्हें अवसर प्राप्त होता है तो सिपाही बनना अवश्य पसंद करेंगे। धीरेंद्र शास्त्री ने बताया कि उनका बचपन से एक ही सपना था कि वो एक सिपाही बनें तथा देश की सेवा करें। आज भी यदि उन्हें अवसर प्राप्त होता है तो सिपाही बनना अवश्य पसंद करेंगे।

चर्चा में उन्होंने मंदिरों में जाकर रील्स बनाने वालों को सलाह दी है। उन्होंने कहा कि मंदिरों में लोगों को आस्था के लिए जाना चाहिए रील्स बनाने के लिए नहीं। दरअसल, इन दिनों रील्स का बहुत ट्रेंड है। कुछ लोग कहीं भी किसी भी समय रील्स बनाने लग जाते हैं। यहां तक कि उन्होंने मंदिरों तक को नहीं छोड़ा। धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि मंदिर, देवालय एवं तीर्थ स्थल और गुरु स्थान। ये प्रदर्शन का विषय नहीं दर्शन का विषय हैं। वहां चित्र मत खींचो। भगवान का चरित्र खींचो।

आपको  बता दें, उत्तर प्रदेश के नोएडा में इन दिनों बाबा बागेश्वर यानि पंडित धीरेंद्र शास्त्री का दिव्य दरबार लगा हुआ है। इस कथा कार्यक्रम का आयोजन 'अमृत कल्याण सेवा ट्रस्ट' करवा रहा है, जो कि 16 जुलाई तक चलेगा। पंडित धीरेंद्र शास्त्री मध्य प्रदेश में स्थित छतरपुर जिले में बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर हैं। वे अक्सर अपने समारोहों में भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की बात करते हैं। हाल ही में धीरेंद्र शास्त्री ने भोपाल में बोला था कि हिंदू राष्ट्र बनाने के लिए सभी सनातनी अपने घरों के बाहर धर्म ध्वज लगाएं, इसी के साथ माथे पर तिलक लगाएं।

जानिए भारत के लक्जरी हनीमून और रोमांटिक स्थल

स्वच्छ शहर के वासियों ने बनाया एक और रिकॉर्ड, 1 साल में 140 अरब की दारू पी गए इंदौरी

'सीमा हैदर को वापस भेजो, नहीं तो फिर होगा 26/11 जैसा हमला..', उर्दू में मुंबई पुलिस को मिली धमकी

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -