'विराट के पास तो धोनी थे, लेकिन यहां...', पकिस्तान के 'कोहली' का छलका दर्द

इस्लामाबाद: पाकिस्तानी बैट्समैन अहमद शहजाद ने कहा कि ड्रेसिंग रूम में उनके साथ जिस तरह का बर्ताव किया गया, उससे वह बहुत आहत थे। उन्हें 2016 में टीम से भी बाहर कर दिया गया था। शहजाद ने दावा किया कि उनका करियर तत्कालीन कोच वकार यूनिस की पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) के सामने पेश रिपोर्ट से बहुत प्रभावित हुआ। रिपोर्ट में कहा गया था कि शहजाद और उमर अकमल को अपने खेल को बेहतर करने के लिए घरेलू क्रिकेट में खेलना होगा।

शहजाद ने क्रिकेट पाकिस्तान से कहा कि, 'मैंने खुद रिपोर्ट नहीं देखी है, मगर PCB के एक अधिकारी ने मुझे बताया कि ये टिप्पणी मेरे संबंध में की गई थी। किन्तु मेरा मानना है कि इन चीजों पर आमने-सामने बातचीत की जानी चाहिए और मैं उस चुनौती को लेने के लिए तैयार हूं। फिर हम देखेंगे कि कौन सही है और कौन गलत।' बता दें कि शहजाद की तुलना टीम इंडिया के पूर्व कप्तान विराट कोहली से होती थी। उन्हें पाकिस्तान का कोहली भी कहा जाता था। उन्होंने कहा कि इस टिप्पणी ने उनके करियर को नुकसान पहुंचाया और उन्हें अपनी बात कहने का अवसर नहीं दिया गया। शहजाद ने कहा कि कोहली का करियर इसलिए आगे बढ़ा क्योंकि उन्हें एमएस धोनी जैसे मेंटर मिला।

शाहजाद ने आगे कहा कि, 'मैंने यह पहले भी कहा है और दोबारा कह रहा हूं कोहली का करियर आगे बढ़ा क्योंकि उनके पास एमएस धोनी थे, किन्तु दुर्भाग्य से यहां पाकिस्तान में, आपके लोग आपकी कामयाबी को बर्दाश्त नहीं कर सकते। हमारे सीनियर खिलाड़ी और पूर्व क्रिकेटर, क्रिकेट जगत में किसी को सफल होते देखकर पचा नहीं पा रहे हैं, जो कि पाकिस्तान क्रिकेट के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है।'

पत्नी को सांप ने काटा, तो 'दोनों' को लेकर अस्पताल पहुँच गया पति और...

श्रीलंका की आर्थिक स्थिति देख सतर्क हुआ अमेरिका, करने जा रहा यह काम

तमिलनाडु के सरकारी कॉलेज में कोरोना का विस्फोट, 30 छात्र हुए संक्रमित

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -