यहाँ उतारा जाता है प्यार का भूत..

सब जानते हैं प्यार अगर हद से बढ़ जाये तो वो पागलपन होने लगता है। या यूँ कहें की उस पर प्यार का भूत सवार हो जाता है। इससे बचने के लिए लोग तरह के तरह के उपाय भी करते हैं। वैसे तो बजरंग बली बहुतों के बिगड़े काम बनाते हैं मगर वे नौजवानों के सिर से आशिकी का भूत भी उतारते हैं, ये हमें हाल ही में पता लगा।

बेहट रोड पर हनुमान जी के बाल स्वरूप श्री बालाजी महाराज का मंदिर है। मंगलवार और शनिवार को यहां खास पूजा की जाती है। बताया जाता है कि मंदिर में परिवार के सदस्य ऐसे युवक और युवतियों को लाते हैं, जि‍नके सिर पर प्यार का भूत सवार होता है।

विशेष पूजा से उतरता है ‘भूत’ प्यार करने वाले अक्सर ‘प्यार किया तो डरना क्या’ कहते नजर आते हैं, लेकिन अब ऐसे आशिकों को सावधान हो जाइए । सहारनपुर के बेहट रोड पर स्थित एक मंदिर आपके सिर से आशिकी का भूत ऐसे उतार फेंकेगा कि जिसकी आपने कभी कल्पना भी नहीं की होगी। इस मंदिर में ऐसे ही लोगों को लाया जाता है जिन पर प्यार का भूत सवार होता है। आशिकी में हद से गुजर जाने वाले आशिकों के लिए ये मंदिर किसी काल से कम नहीं है।

बताया जाता है कि यहां कई परिवारों के सदस्य अपने सिर से प्यार का भूत उतरवाकर जा चुके हैं। गौरतलब है कि इस मंदिर की स्थापना को कुछ ही साल हुए हैं, लेकिन इस मंदिर की मान्यता फैल गई है और यहां पर दूर-दूर से लोग आते हैं।

आठ साल पहले हुई थी मंदिर की स्थापना बालाजी के इस मंदिर की स्थापना करीब 8 साल हुई थी। यहां पर बालाजी महाराज श्रीराम के साथ-साथ अपनी सहयोगी शक्ति श्री काल भैरव और श्री प्रेतराज सरकार के साथ विराजमान हैं। लोग कहते हैं कि तीनों शक्तियां अपने भक्त का परम कल्याण कर रही हैं।

माथा टेकने से दिक्कतें दूर: कहा जाता है कि मंदिर में माता-पिता अपने बच्चों के सिर से आशि‍की का भूत उतारने के लिए उन्हें यहां लेकर आते हैं। सिर्फ आशिकी ही नहीं अन्य प्रकार की परेशानियों से परेशान लोग भी यहां आकर माथा टेकते हैं और उनकी सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं।

मंगलवार और शनिवार को विशेष पूजा: मंदिर के संस्थापक अतुल जोशी महाराज यहां हर शनिवार और मंगलवार को एक विशेष प्रकार की पूजा करते हैं। अतुल जोशी ही युवक-युवतियों की समस्या के समाधान के लिए परिजनों से पूजा करवाते हैं।

संस्थापक बताते हैं उपाय : जिस समय यह पूजा होती है, उस समय केवल संबंधित युवक और युवती के परिजन ही होते हैं। अतुल जोशी परिजनों को कुछ उपाय भी बताते हैं। उनका मानना है कि इन उपायों को करने के बाद समस्या हल हो जाती है।

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -