Share:
ओडिशा ट्रेन हादसा: अगर 'कवच' लगा होता, तो नहीं जाती सैकड़ों लोगों की जान
ओडिशा ट्रेन हादसा: अगर 'कवच' लगा होता, तो नहीं जाती सैकड़ों लोगों की जान

भुवनेश्वर: ओडिशा के बालासोर में 3 ट्रेनों के बीच हुई भिड़ंत में 280 से अधिक लोगों के मारे जाने के बाद रेलवे पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। विपक्षी दल से लेकर सोशल मीडिया यूजर्स सवाल कर रहे हैं कि जब रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने जब ‘कवच’ का उद्घाटन कर दिया था, तो उन्होंने कहा था कि इस रक्षा प्रणाली से ट्रेनों में टक्कर नहीं होगी, क्योंकि चालकों को पहले ही अलर्ट मिल जाएगा। सोशल मीडिया यूजर रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव और रेल मंत्रालय पर तंज कस रहे हैं।  

 

उल्लेखनीय है कि इंडियन रेलवे द्वारा विकसित कवच का उद्घाटन मार्च 2022 में किया गया था। उस दौरान कहा गया था कि यह भारतीय रेलवे के लिए मील का पत्थर सिद्ध होगा। रेल दुर्घटनाओं को रोकने में इंडियन रेलवे के इस 'कवच' को मास्टर स्ट्रोक और बड़ी क्रांति बताया जा रहा था। मार्च 2022 में कवच टेक्नोलॉजी के ट्रायल में एक ही पटरी पर दो ट्रेनों को दौड़ाया गया था,  इनमें से एक ट्रेन में केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव खुद सवार थे, वहीं दूसरी ट्रेन के इंजन में रेलवे बोर्ड के चेयरमैन सवार थे। इन ट्रेनों में 'कवच सिस्टम' लगा होने के चलते एक ही पटरी पर आमने-सामने आने के बावजूद ट्रेनों में टक्कर नहीं हुई थी और यह परीक्षण सफल रहा था।

इस बीच अब तक के सबसे दर्दनाक ट्रेन दुर्घटनाओं में से एक बालासोर ट्रेन हादसे को लेकर सवालों में घिरने पर भारतीय रेलवे ने जवाब दिया है। रेलवे के प्रवक्ता अमिताभ शर्मा ने कहा है जिस रूट पर यह हादसा हुआ है, उस रूट पर ऐंटी-कॉलिजन कवच सिस्टम नहीं लगाया जा सका था। फ़िलहाल, रेलवे द्वारा देश के हर रूट पर कवच को लगाने की प्रक्रिया चल ही रही है। वर्ष 2022 की रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के 2,164 किलोमीटर के लिए कवच प्रणाली को रेलवे बोर्ड ने मंजूरी दी है। सिग्नल एवं दूरसंचार विभाग द्वारा प्रथम चरण में 615 किलोमीटर लंबी नागपुर से झारसुगुड़ा रेल खंड में सर्वे का कार्य शुरू किया जा चुका है। हालाँकि, यदि इस रुट पर कवच सिस्टम लग चूका होता, तो यह दर्दनाक हादसा न होता और सैकड़ों लोगों की जान न जाती, लेकिन देशभर के सभी रूटों पर इस सिस्टम को लगाने का काम उतना आसान भी नहीं, इसमें समय लगता है। अब रेलवे कवच लगाने की इस प्रक्रिया को और तेज करने की तैयारी कर रही है। 

हाई लेवल सेक्युरिटी के बीच होगी अमरनाथ यात्रा, तैयारियां पूरी, LG मनोज सिन्हा बोले- भक्तों को कोई समस्या नहीं होगी

ISRO चीफ बोले- बीजगणित, धातु विज्ञान, विमान विज्ञान जैसी कई चीज़ें वेदों में मौजूद, 6वीं सदी के 'सूर्य सिद्धांत' में बहुत रहस्य

आतंकवाद का कोई धर्म नही होता! फिर आतंकी बनने से पहले धर्म क्यों बदलना पड़ता है ?

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -