'अब समय आ गया है कि..', इजराइल-हमास युद्ध को लेकर पीएम मोदी ने वैश्विक नेताओं के सामने दिया बड़ा बयान
'अब समय आ गया है कि..', इजराइल-हमास युद्ध को लेकर पीएम मोदी ने वैश्विक नेताओं के सामने दिया बड़ा बयान
Share:

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरे वॉयस ऑफ ग्लोबल साउथ समिट (VOGSS) के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि भारत इजरायली बलों और हमास आतंकवादियों के बीच चल रहे संघर्ष में नागरिकों की मौत की कड़ी निंदा करता है। पीएम मोदी ने कहा कि पश्चिमी एशिया की स्थिति से नई चुनौतियां उभर रही हैं।

उन्होंने कहा कि, 'हम सभी देख रहे हैं कि पश्चिम एशिया क्षेत्र की घटनाओं से नई चुनौतियाँ उभर रही हैं। भारत ने 7 अक्टूबर को इज़राइल में हुए आतंकवादी हमले की निंदा की है। हमने संयम भी बरता है। हमने बातचीत और कूटनीति पर जोर दिया है।' पीएम मोदी ने शिखर सम्मेलन में कहा है कि, हम इजराइल और हमास के बीच संघर्ष में नागरिकों की मौत की भी कड़ी निंदा करते हैं। उन्होंने फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास से बात करने के बाद यह भी कहा कि भारत ने फिलिस्तीन के लोगों को मानवीय सहायता भेजी है। बता दें कि, इजराइल लगातार आम नागरिकों से कुछ समय के लिए गाज़ा छोड़ने के लिए कह रहा है, ताकि वो हमास के आतंकियों को मारकर अपने नागरिकों को उनके चंगुल से छुड़ा सके, लेकिन आतंकी उन आम नागरिकों को मानव ढाल की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं और इजराइली हमले में नागरिक भी निशाना बन रहे हैं 

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि, "अब समय आ गया है, जब ग्लोबल साउथ के देशों को व्यापक वैश्विक भलाई के लिए एकजुट होना चाहिए।" इस अवसर पर,पीएम मोदी ने पांच C के ढांचे के तहत सहयोग का आह्वान किया - "परामर्श, संचार, सहयोग, रचनात्मकता, क्षमता निर्माण"। (Counselling, Communication, Collaboration, Creativity, Capacity Building)। 

प्रधानमंत्री मोदी ने यह भी कहा कि भारत का मानना है कि नई तकनीक से ग्लोबल नॉर्थ और ग्लोबल साउथ के बीच अंतर नहीं बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि, "आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के समय में, यह महत्वपूर्ण है कि प्रौद्योगिकी का उपयोग जिम्मेदारी से किया जाए। इसे और बढ़ावा देने के लिए, अगले महीने, भारत आर्टिफिशियलआई ग्लोबल पार्टनरशिप शिखर सम्मेलन का आयोजन करेगा।" विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने पहले कहा था कि शिखर सम्मेलन वर्चुअल मोड में आयोजित किया जाएगा और उद्घाटन सत्र का नेतृत्व मोदी करेंगे। बागची ने कहा कि इनमें से प्रत्येक सत्र के शुरुआती खंड को लाइव-स्ट्रीम किया जाएगा।

बता दें कि, विदेश मंत्रालय ने पहले कहा था कि अपने G20 प्रेसीडेंसी के दौरान, भारत ने यह गारंटी देने का प्रयास किया है कि ग्लोबल साउथ के सामने आने वाले मुद्दों पर उतना ध्यान दिया जाए, जिसके वे हकदार हैं और दुनिया की सबसे जरूरी समस्याओं का जवाब विकसित करते समय उनके उद्देश्यों को ध्यान में रखा जाए। दूसरा VOGSS भारत की अध्यक्षता के दौरान विभिन्न G20 बैठकों में हासिल किए गए प्रमुख परिणामों को ग्लोबल साउथ के देशों के साथ साझा करने पर ध्यान केंद्रित करेगा। वैश्विक विकास से उत्पन्न चुनौतियों पर भी चर्चा होने की संभावना है।

इसके अलावा, शिखर सम्मेलन अधिक समावेशी, प्रतिनिधि और प्रगतिशील विश्व व्यवस्था की आम आकांक्षा की दिशा में उत्पन्न गति को बनाए रखने के तरीकों पर चर्चा करने के लिए एक मंच के रूप में काम करेगा। दूसरे VOGSS को 10 सत्रों में संरचित किया जाएगा। उद्घाटन और समापन सत्र राज्य प्रमुख/सरकारी स्तर पर होंगे और इसकी मेजबानी प्रधानमंत्री मोदी करेंगे। विदेश मंत्रालय ने कहा कि उद्घाटन नेताओं के सत्र का विषय "एक साथ, सभी के विकास के लिए, सभी के विश्वास के साथ" है और समापन नेताओं के सत्र का विषय "ग्लोबल साउथ: टुगेदर फॉर वन फ्यूचर" है।

बंगाल में मुस्लिम विधायक ने बढ़ाई TMC की टेंशन, नौशाद सिद्दीकी ने सीधे सीएम ममता के भतीजे अभिषेक को दे दिया चैलेंज

LPG सिलेंडरों के दामों में बड़ी कटौती, यहाँ चेक करें लेटेस्ट कीमतें

कुलगाम: आतंकवाद के सफाए में जुटी भारतीय सेना, लश्कर के 3 आतंकियों को भेजा 'जहन्नुम'

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -