अनुसूचित जाति को जोड़ने में लगी भाजपा, दिल्ली विधानसभा चुनाव में अन्य दलों को होगा नुकसान!

अनुसूचित जाति को जोड़ने में लगी भाजपा, दिल्ली विधानसभा चुनाव में अन्य दलों को होगा नुकसान!
Share:

भारत की राजधानी दिल्ली में 12 विधानसभा सीटें अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं. चुनावी इतिहास बताता है कि इन सीटों पर जीत दर्ज करने वाली पार्टी दिल्ली की सत्ता तक पहुंचने में सफल रही है. भाजपा के लिए यह बड़ी चुनौती है. विधानसभा गठन के बाद 1993 में हुए पहले चुनाव को छोड़ दिया दिया जाए तो एक भी चुनाव में पार्टी दो से ज्यादा सुरक्षित सीटें नहीं जीत सकी है.

इन देशों पर अमेरिका ने लगाया यात्रा का प्रतिबंध

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पहले चुनाव में पार्टी इनमें से आठ सीटें जीतकर दिल्ली की सत्ता पर काबिज हुई थी. हालांकि, मई में हुए लोकसभा चुनाव में इन सभी सीटों पर भाजपा को बढ़त मिली थी जिससे पार्टी के नेता उत्साहित हैं और उन्हें इस बार स्थिति बदलने की उम्मीद लगा रहे है.

नहीं थम रहा कोरोना का कोहराम, मरने वालों की संख्या 304 के पार

अगर आपको नही पता तो बता दे कि आरक्षित सीटों पर कांग्रेस का दबदबा रहता था, लेकिन वर्ष 2013 से यह स्थिति बदल गई है. पिछले दो चुनावों में आम आदमी पार्टी (आप) का दबदबा रहा है. 2013 में उसने नौ सीटें जीती थीं और मौजूदा समय में इन सभी विधानसभाओं क्षेत्रों में उसका कब्जा है. वह अपना कब्जा बनाए रखने के लिए पूरी कोशिश में लगी हुई है. दूसरी ओर कांग्रेस इन सीटों पर अपना जनाधार वापस पाने की कोशिश में लगी हुई है.भाजपा भी इस बार इन सीटों पर बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रही है.

महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे ने किया CAA का समर्थन, NRC को लेकर किया बड़ा ऐलान

बजट को लेकर मोदी का बड़ा बयान, कहा- बजट में Tax Structure में होगा बुनियादी बदलाव

पाक के छात्रों ने पाक के पीएम को कोसा, कहा- 'भारत से कुछ सीखो'...

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -