मुंशी प्रेमचंद के ये 9 अनमोल विचार, जिन्हे पढ़कर बदल जाएगा आपका व्यव्हार

Jul 31 2019 12:00 AM
मुंशी प्रेमचंद के ये 9 अनमोल विचार, जिन्हे पढ़कर बदल जाएगा आपका व्यव्हार

यदि आपने भारतीय साहित्य को पढ़ा और प्रेमचंद को नहीं, तो यानी समुद्र-तट तक गए और पानी ही न देखा। प्रेमचंद भारतीय साहित्य की अविरल धारा के रस हैं जिनके बगैर उसके पानी में कोई स्वाद नहीं रह जाता। गोदान, गबन, निर्मला, कर्मभूमि, मानसरोवर जैसी कृतियां देने वाले प्रेमचंद न केवल हिंदी बल्कि उर्दू में भी लेखन किया करते थे। ऐसे महान व्यक्तित्व की जयंती पर हम आपके लिए लेकर आए हैं उनके कुछ अनमोल विचार:-

-खाने और सोने का नाम जीवन नहीं है, जीवन नाम है- आगे बढ़ते रहने की लगन

-चापलूसी का ज़हरीला प्याला आपको तब तक नुकसान नहीं पहुँचा सकता, जब तक कि आपके कान उसे अमृत समझ कर पी न जाएं

-मैं एक मज़दूर हूँ। जिस दिन कुछ लिख न लूँ, उस दिन मुझे रोटी खाने का कोई हक नहीं

-सौभाग्य उन्हीं को प्राप्त होता है, जो अपने कर्तव्य पथ पर अविचल रहते हैं 

-दौलत से आदमी को जो सम्मान मिलता है, वह उसका नहीं उसकी दौलत का सम्मान है

-विजयी व्यक्ति स्वभाव से, बहिर्मुखी होता है। पराजय व्यक्ति को अन्तर्मुखी बनाती है।

-लिखते तो वह लोग हैं, जिनके अंदर कुछ दर्द है, अनुराग है, लगन है, विचार है। जिन्होंने धन और भोग विलास को जीवन का लक्ष्य बना लिया, वो क्या लिखेंगे?

-मनुष्य का मन और मस्तिष्क पर भय का जितना प्रभाव होता है, उतना और किसी शक्ति का नहीं। प्रेम, चिंता, हानी यह सब मन को अवश्य दुखित करते हैं; पर यह हवा के हल्के झोंके हैं और भय प्रचंड आधी है।

-मनुष्य को देखो, उसकी आवश्यकता को देखो तथा अवसर को देखो उसके उपरांत जो उचित समझा, करो।

B'Day : इस नेगेटिव किरदार के लिए अवॉर्ड जीत चुके हैं सोनू सूद

ये है बॉलीवुड स्टार मिथुन चक्रवर्ती के बेटे जिनपर लग चुका है रेप का आरोप

लाखों में थी प्रियंका के बर्थडे केक की कीमत, जानकर उड़ जायेंगे होश