उत्तर प्रदेश: यादव परिवार में आई दरार, 2014 में था कुछ ऐसा हाल

उत्तर प्रदेश: यादव परिवार में आई दरार, 2014 में था कुछ ऐसा हाल

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले से करीब एक किमी लंबे गड्ढों से भरे रास्ते के एक ओर दामोदर कुंज है और दूसरी ओर रोशनी से जगमगाता कार्यालय है, जिस पर 69 लोकसभा सीट का बैनर लगा हुआ है। यह सड़क समाजवादी पार्टी (सपा) के कभी एकसाथ रहे यादव कुनबे में आई खटास को भी जाहिर करती है। बताते चलें कि आजमगढ़ लोकसभा सीट से इस बार सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव चुनावी संग्राम में हैं। 

आजमगढ़ के व्यवसायी हर्षवर्धन अग्रवाल के दामोदर कुंज में 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव रुका करते थे। अपने व्यस्त चुनावी कार्यक्रम के बीच प्रचार अभियान के दौरान वे यहीं पर सपा कार्यकर्ताओं को संबोधित भी करते थे। किन्तु मुलायम के छोटे भाई शिवपाल यादव और बेटे अखिलेश यादव के बीच पारिवारिक विवाद सामने आने के बाद दामोदर कुंज परिसर का एक भाग शिवपाल की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (प्रासपा) के कार्यालय के रूप में बदल गया है। जबकि दूसरे भाग में क्षेत्रीय खाद्य नियंत्रक का कार्यालय है। 

प्रासपा के कोषाध्यक्ष हर्षवर्धन अग्रवाल ने प्रेस वालों से बात करते हुए बताया है कि, 'पुराने पार्टी कार्यालय में मैं एक मॉल बनवाऊंगा। मैं एक व्यवसायी हूं। मैं शिवपालजी के साथ हूं। 2014 में मेरे दफ्तर और घर में नेताजी मुलायम सिंह यादव रुका करते थे। अब मैं चाचाजी शिवपाल सिंह यादव के लिए फिरोजाबाद में सक्रिय रूप से चुनाव प्रचार कर रहा हूं।' 

खबरें और भी:-

दिग्गी राजा का हिंदुत्व पर बड़ा बयान, कहा- हिन्दू कभी आतंकी नहीं हो सकता

दिल्ली की आधी सीटों पर बीजेपी ने घोषित किये प्रत्याशी, बची सीटों पर आज घोषणा संभव

लोकसभा चुनाव: कांग्रेस से गठबंधन की आस टूटी, आज 'आप' उम्मीदवार भरेंगे नामांकन