6 लाख से अधिक लोगों ने छोड़ी भारत की नागरिकता

नई दिल्ली: संसद के जारी शीतकालीन सत्र के दौरान मंगलवार को लोकसभा में यह जानकारी दी गई कि विगत पांच वर्षों में 6 लाख से अधिक भारतीयों ने अपनी नागरिकता छोड़ दी है.  केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने लोकसभा को जानकारी देते हुए कहा कि बीते 5 वर्षों में, 6 लाख से ज़्यादा लोग भारत की नागरिकता छोड़ चुके हैं. 

उन्होंने यह भी कहा कि विदेश मंत्रालय के पास मौजूद जानकारी के मुताबिक, कुल 1,33,83,718 भारतीय नागरिक विदेशों में रह रहे हैं. एक सवाल का लिखित जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 2017 में 1,33,049 भारतीयों ने नागरिकता छोड़ी थी, वहीं 2018 में 1,34,561 लोगों ने भारत की नागरिकता छोड़ी है. केंद्रीय मंत्री ने बताया कि वर्ष 2019 में 1,44,017 भारतीयों ने अपनी नागरिकता छोड़ी, 2020 में 85,248 और इस वर्ष 30 सितंबर, 2021 तक 1,11,287 लोग भारत की नागरिकता छोड़ चुके हैं.

दरअसल, देश में NRC की स्थिति को लेकर तृणमूल कांग्रेस (TMC) सांसद माला रॉय ने सवाल किया था. इसके जवाब में नित्यानंद राय ने कहा कि अभी तक केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय स्तर पर भारतीय नागरिकों का राष्ट्रीय रजिस्टर (NRC) तैयार करने का निर्णय नहीं लिया है. उन्होंने ये भी बताया कि जहां तक असम का प्रश्न है, तो सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश पर NRC में शामिल और शामिल नहीं किए गए लोगों की सूची 31 अगस्त 2019 को जारी कर दी गई है.

वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान के 100 वर्ष हुए पूरे, समरोह में पहुंचकर सीएम योगी ने की इनसे मुलाकात

केरल में राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव

CM योगी ने किया एथनॉल प्लांट का शिलान्यास, किसानों की तरक्की होगी, रोज़गार भी मिलेगा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -