अखलाक के बेटे ने बिहार में बीजेपी की हार से दी पिता को श्रद्धांजलि

दादरी : वाकई दिल के किसी कोने में राजनीतिक पार्टियों के लिए नफरत पनप रही है। जाहिर सी बात है जब पूरा देश एक ही बात की रट लगा रहा हो तो ऐसे में झूठ भी सच और सच भी झूठ बन जाता है और जब गम पिता की मौत का हो तो वाकई दिमाग सुन्न हो जाता है। मोहम्मद इखलाक को आज पूरा देश जानता है, जिसकी दादरी में कथित तौर पर हत्या कर दी गई थी। जुर्म बताया गया गो मांस खाना। कल बिहार चुनाव के परिणाम ने इस परिवार के साथ-साथ पूरे गांव के चेहरे पर मुस्कुराहट ला दी। कारण था बीजेपी की हार।  अखलाक की मौत का जिम्मेदार ये लोग बीजेपी को मानते है, जो समझते है कि बीजेपी नफरत की राजनीति परोस रही है।

कल दिनभर टीवी पर इस गांव के लोगो ने एक-एक वोटो की गिनती देखी और इनके लिए वो सुकून भरा क्षण था। । अखलाक के बेटे सरताज ने कहा कि बिहार के जनादेश में भारतीय जनता पार्टी की हार मेरे पिता के लिए श्रद्धांजलि है। सरताज भारतीय वायु सेना में कार्पोरेल है। उन्होने यह भी कहा कि बिहार के लोग सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ एकजुट हो गए है। इस देश में नफरत की राजनीति के लिए कोई जगह नही है। लोगो को समझना चाहिए कि धर्म के नाम पर लड़ने से कुछ भी हासिल नही होगा। मैं सभी राजनेताओं से आग्रह करना चाहूगाँ कि सता के लिए देश को न बाँटे।

संयोग की बात ये रही कि बिसाहड़ा में दिन में 11 बजे से 3 बजे तक और रात में 11 से सुबह के 5 बजे तक बिजली रहती है पर परिणाम के दिन बेतहाशा बिजली गई। इसलिए ये सब एक ही जगह जमा होकर जनरेटर पर चुनाव का रिजल्ट देखते रहे। 75 साल के भूप सिंह इस गांव के मुकिया है। उन्होने कहा मैंने अपनी पूरी जिंदगी में ऐसा तनाव नही देखा।

मुजफ्फरनगर दंगे के मुख्य आरोपी व बीजेपी विधायक संगीत सोम जब हमले के बाद बिसाहड़ा गांव का दौरा करने आए तो बड़ी ही बतमीजी से विवादित भाषा में बयान दिया। गांव वालो का मानना है कि ये हार इसी बयान का परिणाम है पर सोम का मानना है कि ऐसा बिल्कुल नही है।  

 

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -