एमके स्टालिन ने तमिलनाडु में पत्रकारों को ' फ्रंटलाइन वर्कर ' किया घोषित

May 04 2021 03:12 PM
एमके स्टालिन ने तमिलनाडु में पत्रकारों को ' फ्रंटलाइन वर्कर ' किया घोषित

तमिलनाडु के नए निर्वाचित मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने घोषणा की कि राज्य में उग्र कोरोनोवायरस महामारी के बीच काम करने वाले पत्रकारों को 'फ्रंटलाइन वर्कर्स' माना जाएगा। द्रविड़ मुनेत्र कड़गम प्रमुख ने ट्विटर पर लिखा, "बारिश, धूप और बाढ़ के कारण अपने जीवन के जोखिम पर समाचार पत्रों, दृश्य और श्रव्य मीडिया में काम करने वाले सभी मीडियाकर्मियों को तमिलनाडु में फ्रंटलाइन कर्मचारी माना जाएगा।" उन्होंने कहा कि 'राइट्स ऑफ प्रायोरिटी एम्प्लॉइज' के विशेषाधिकार उनके अनुसार दिए जाएंगे।

 राज्य में काम करने वाले पत्रकार अब कोविड-19 के खिलाफ प्राथमिकता वाले टीकाकरण के लिए पात्र होंगे। इस घोषणा से पहले मध्य प्रदेश, ओडिशा और पंजाब जैसे कई राज्यों ने पत्रकारों को अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं के दायरे में लाया। रविवार को, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी पत्रकारों को कोविड -19 योद्धा के रूप में घोषित किया क्योंकि उन्होंने कहा कि उन्होंने "जोखिम लिया है और अन्य कोविड योद्धाओं की तरह इन दिनों मैदान पर काम किया है।" 

पिछले महीने, फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर आग्रह किया था कि पत्रकार घर से काम नहीं कर सकते हैं, और कोविड -19 महामारी और जनता के अन्य मामलों को कवर करने के लिए अपने जीवन और स्वास्थ्य को दैनिक आधार पर जोखिम में डाल दिया है। स्वास्थ्य और जनता की सुरक्षा और हमारे लोकतंत्र के लिए महत्वपूर्ण मामलों सहित चिंता। इस बीच राष्ट्र कोविड-19 की विनाशकारी दूसरी लहर से जूझ रहा है, जिसने देशव्यापी रैली को 20 मिलियन से अधिक और मृत्यु दर को 220,000 से अधिक कर दिया। मंगलवार को देश ने संक्रमण के 357,229 नए मामलों और 24 घंटे की अवधि में 3,449 नए घातक परिणाम दर्ज किए।

अधीर रंजन बोले- हमारे मुस्लिम वोट TMC को गए, लेफ्ट ने भी अपने मत ट्रांसफर कराए

बाइक से जा रहे दंपति को बेकाबू ट्रक ने मारी ऐसी टक्कर की हो गई मौत

कोरोना काल के बीच रोका जाए सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का काम, दिल्ली हाई कोर्ट में होगी सुनवाई