इस आदमी ने साइकिल पर निकाली साली की अंतिम यात्रा

इस आदमी ने साइकिल पर निकाली साली की अंतिम यात्रा

कई बार इंसान की ऐसी मजबूरियां होती हैं जिसके कारण वो हर काम करने में असमर्थ हो जाता है. इन दिनों सोशल मीडिया पर एक ऐसी ही फोटो वायरल हो रही है जिसे देखकर शायद आपका भी दिल पसीज जाएगा. इस फोटो में आप एक आदमी को देख सकते हैं जो अपनी साइकिल पर शव बांधकर ले जा रहा है. ये देखकर तो आपके दिमाग में भी एक ही सवाल आ रहा होगा कि आख़िरकार ये व्यक्ति साइकिल पर लाश बांधकर क्यों ले जा रहा है और ये शव आखिर है किसका?

आपको बता दें ये शव इस आदमी की साली का है लेकिन सवाल तो ये है कि आख़िरकार ये आदमी शव को साइकिल पर क्यों ले जा रहा है? इस तस्वीर को देखकर कई लोगों के मन में ये सवाल भी पैदा हो रहा है कि कई इस आदमी ने मर्डर तो नहीं किया. लेकिन हम आपको बता दें इस शख्स ने ये सब अघोषित बहिष्कार होने की मज़बूरी में किया. इस आदमी का नाम चतुरभुज बांका है जो अपनी साली पंचा महाकुड (40) की लाश को लेकर जा रहा है. ये आदमी ओडीशा के बौद्ध जिले के कृष्णपाली गांव का रहना वाला है. बांका के साथ एक भी आदमी उनकी साली के अंतिम संस्कार में नहीं पंहुचा. दरअसल बांका ने दूसरी जाति की महिला से शादी की थी इसलिए गांव वालों ने बांका को अघोषित बहिष्कार कर रखा है.

गांववाले नहीं लेकिन पत्नी कहा है?

बांका की पत्नी और साली दोनों ही डायरिया बीमारी से ग्रसित है. दोनों का इलाज अस्पताल में चल रहा था और इसी बीच बांका की साली ने दम तोड़ दिया. अस्पताल ने बांका की साली का शव एम्बुलेंस के जरिए घर तो पहुंचा दिया लेकिन इसके बाद कोई भी अर्थी को कन्धा देने के लिए नहीं पंहुचा. इसके बाद बांका को साइकिल पर ही अपनी साली का शव बन्दर उसे शमशान घाट तक ले जाना पड़ा. बांका की पत्नी अब भी अस्पताल में भर्ती है.

स्कूलों के अटेंडेंस टेबलेट में दिख रही अश्लील तस्वीरें, आईटी ने दिया ये जवाब

 

?