'कांग्रेसमुक्त मोर्चा' बनाने की तैयारी में ममता बनर्जी, आखिर सोनिया और दीदी में क्यों आ गई दूरियां ?

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की सीएम और तृणमूल कांग्रेस (TMC) ममता बनर्जी केंद्रीय राजनीति में उतरने के लिए पूरे देश में ताबड़तोड़ दौरे कर रही हैं और गैर-कांग्रेसी विपक्षी दलों से मिलकर एक अलग ही मोर्चा बनाने की तैयारी में हैं। इस बीच बुधवार को उन्होंने मुंबई में सिविल सोसायटी के सदस्यों से बात करते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को 2024 के लोकसभा चुनाव में हराने का भी प्लान बताया है।

TMC सुप्रीमो ने कहा कि, 'अगर सभी क्षेत्रीय दल एक साथ आते हैं तो फिर भाजपा को मात देना आसान होगा।' इस प्रकार उन्होंने स्पष्ट संकेत दे दिए हैं कि आने वाले दिनों में उनकी कुछ और क्षेत्रीय दलों को जोड़ने की कोशिश होगी। उल्लेखनीय है कि ममता बनर्जी ने मंगलवार को ही राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) प्रमुख शरद पवार और शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे से मुलाकात की थी। ममता बनर्जी इससे पहले गोवा दौरे पर भी गई थीं, जहां उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री लुईजिन्हो फलेरियो सहित कांग्रेस को कई नेताओं को TMC में शामिल करा लिया था।

इसके अलावा हाल ही में दिल्ली दौरे में ममता ने बिहार कांग्रेस के दिग्गज नेता कीर्ति आजाद और हरियाणा के नेता एवं राहुल गांधी के ख़ास माने जाने वाले अशोक तंवर को भी TMC की सदस्यता दिलाई थी। JDU से पवन वर्मा और भाजपा के पूर्व दिग्गज नेता यशवंत सिन्हा भी अब ममता की टीम में शामिल हो चुके हैं। इस प्रकार TMC ने लगातार अपने अभियान को तेज किया है। वहीं दूसरी ओर, ममता ने कांग्रेस को भाजपा के खिलाफ कमजोर बताते हुए लगातार निशाना साधा है। यहां तक कि ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी भी भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल चुके हैं।

विपक्षी दल अपने दम पर बीजेपी से नहीं लड़ सकते: दिनेश शर्मा

वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान के 100 वर्ष हुए पूरे, समरोह में पहुंचकर सीएम योगी ने की इनसे मुलाकात

केरल में राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -