मप्र बजट : जानिए क्या हुआ सस्ता औऱ क्या हुआ महंगा...?

Feb 26 2016 01:05 PM
मप्र बजट : जानिए क्या हुआ सस्ता औऱ क्या हुआ महंगा...?

भोपाल : गुरुवार को रेल बजट के एख दिन बाद मध्य प्रदेश का आम बजट भी जनता के सामने आ ही गया। कुल मिलाकर यह बजट कुछ चीजों के दामों में वृद्धि औऱ कुछ सामानों के दामों में कमी करते हुए एक औसत बजट रहा। वित मंत्री जयंत मलैया ने आज विधानसभा में राज्य का बजट पेश किया।

राज्य सरकार के खजाने में बढ़ोतरी के लिए सरकार ने वैट मूल्यों में वृद्धि की है। इससे कई तरह की चीजें महंगी हुई है। इस दौरान होशंगाबाद में नई कृषि विश्वविद्यालय खोलने का भी ऐलान किया गया औऱ कृषि यंत्रों में मूल्यों में कमी आई है। 2016-17 का बजट 58 हजार करोड़ का है। इसमें सरकार का 118 करोड़ का घाटा बताया गया है।

किन चीजों के मूल्यों में हुई कमीः-

*बैटरी से चलने वाली कारें और रिक्शा

*नए मल्टीप्लेक्स में मनोरंजन टैक्स पर छूट

*सोया मिल्क व ऑर्गेनिक पेसटीसाइड

*हेवी लोडिंग वाले वाहनों पर 1 प्रतिशत वैट की कमी की गई

*38 कृषि यंत्र

किन चीजों के मूल्यों में हुई वृद्धिः-

*प्लास्टिक का सामान, गैस, गीजर

*साइकिल, स्टांप, कांच का सामान

*स्कूल व स्टेशनरी का सामान

बजट के दौरान वित मंत्री ने कहा कि बजट में अधो संरचना विकास पर अधिक बल दिया गया है। राज्य पर कर्ज का भार लगभग आधा रह गया है। प्रदेश में मानव संसाधन बढ़ाने के लिए शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में निवेश की जरूरत है। उन्होंने होशंगाबाद में कृषि महाविद्याल खोलने के साथ फसल नुकसान का 25 फीसदी बीमा राशि तुरंत दी देने की घोषणा की।

वित्तमंत्री ने कहा कि मौसम की मार से दलहन की फसल प्रभावित हुई है। प्रदेश में राजकोषीय घाटे पर नियंत्रण किया गया है। राज्य की 50 कृषि मंडियों को ई-सेवा से जोड़ा जाएगा इसके साथ ही किसानों को नि:शुल्क तकनीकी सहायता और मृदा कार्ड दिए जाएंगे। कस्टमर हायरिंग सेंटर को भी बढ़ावा दिया जाएगा।

दूध उत्पादन के क्षेत्र में एमपी चौथे नंबर पर है। राज्य में प्याज का उत्पादन बढ़ाया जाएगा। साथ ही मंडियों को कंप्यूटराइज्ड किया जाएगा। सिंहस्थ के लिए 298 करोड़ की राशि का प्रावधान किया गया है।शहरी स्वच्छता के लिए 34 शहरों का चयन किया गया है। प्रदेश के 40 स्कूलों का उन्नयन भी किया जाएगा।

20 नए कन्या विद्दालय भी खोले जाएंगे। मेट्रो लाइन के लिए 800 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। वित्तमंत्री ने बजट भाषण में भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में आईटी पार्क खोलने की घोषणा भी की। उच्च शिक्षा के लिए 600 करोड़ रुपए से अधिक की राशि जारी करने की घोषणा की गई।