झेलम से रेत निकाल रहे थे मजदूर, हाथ में कमल लिए निकली 'माँ दुर्गा' की 1300 वर्ष प्राचीन मूर्ति

श्रीनगर: केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में मंगलवार (30 नवंबर 2021) को 7वीं सदी की देवी दुर्गा की एक प्रतिमा मिली। यह प्रतिमा काले पत्थर से निर्मित है। पुलिस के अधिकारियों ने इस संबंध में जानकारी दी है। यह मूर्ति खग इलाके से मिली है। बताया जा रहा है कि माँ दुर्गा की यह प्रतिमा 1300 वर्ष पुरानी है। श्रीनगर के पांडथरेथन इलाके में झेलम नदी से रेत निकालते वक़्त श्रमिकों को यह मूर्ति मिली।

 

अधिकारियों ने कहा कि प्रतिमा का परीक्षण करने के लिए अभिलेखागार, पुरातत्व और संग्रहालय विभाग के अधिकारियों को बुलाया गया था। परिक्षण के बाद उन्होंने बताया कि यह प्रतिमा देवी दुर्गा की है और तक़रीबन 7वीं शताब्दी की है। सिंह सिंहासन पर विराजमान माँ दुर्गा की यह प्रतिमा थोड़ी क्षतिग्रस्त हो गई है। इस प्रतिमा में माँ दुर्गा की बाईं भुजा नहीं है। इस मूर्ति पर गांधार कला विद्यालय का प्रभाव लग रहा है और माँ ने दाहिने हाथ में कमल ले रखा है। बरामद प्रतिमा को अभिलेखागार, पुरातत्व और संग्रहालय विभाग के उप निदेशक मुश्ताक अहमद बेग के सुपुर्द कर दिया गया है।

पुलिस ने बताया है कि, 'परीक्षण में पता चला है कि बरामद की गई मूर्ति करीब 7वीं-8वीं ई. (लगभग 1300 वर्ष पूर्व) की है। मूर्ति12″x8″ आकार की है, जिसे काले पत्थर से बनाया गया है, जिसमें देवी दुर्गा सिंह सिंहासन पर विराजमान हैं।' बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब बडगाम इलाके में दुर्गा की प्रतिमा मिली है। इससे पहले सितंबर में भी काले पत्थर से बनी देवी दुर्गा की एक प्रतिमा बरामद हुई थी।

बारबाडोस के इवेंट में पहुंची रिहाना, सिंगर का लोग देख हर कोई हुआ हैरान

महाराष्ट्र में ओमिक्रोन वैरिएंट से सनसनी, 25 अंतरराष्ट्रीय यात्री संक्रमित

गीता गोपीनाथ अगले साल की शुरुआत में आईएमएफ की पहली डिप्टी एमडी होंगी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -