बहुत ज्यादा शराब पीने से ही नहीं बल्कि इन कारणों से भी खराब होता है लीवर

बहुत ज्यादा शराब पीने से ही नहीं बल्कि इन कारणों से भी खराब होता है लीवर
Share:

मानव शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग, लीवर, समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जबकि अधिकांश लोग लीवर की क्षति को अत्यधिक शराब के सेवन से जोड़ते हैं, ऐसे कई अन्य कारक हैं जो इस महत्वपूर्ण अंग को नुकसान पहुंचा सकते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने शराब के सेवन से परे लीवर की क्षति के पीछे के कारणों की जांच की है, जटिल तंत्र और जीवनशैली विकल्पों पर प्रकाश डाला है जो लीवर की समस्याओं का कारण बन सकते हैं। इस लेख में, हम इन कारकों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा प्रदान की गई तार्किक व्याख्याओं का पता लगाएंगे।

शराब का सेवन और लीवर की क्षति

लीवर की क्षति में शराब की भूमिका

अत्यधिक शराब का सेवन लीवर की क्षति के लिए एक सर्वविदित योगदानकर्ता है। जब हम शराब का सेवन करते हैं, तो लीवर इसे पचाने के लिए कड़ी मेहनत करता है। समय के साथ, लंबे समय तक शराब के सेवन से अल्कोहलिक लीवर रोग (एएलडी) नामक स्थिति पैदा हो सकती है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ बताते हैं कि लीवर शराब को हानिकारक रसायनों में तोड़ देता है जिससे लीवर के ऊतकों में सूजन और घाव हो सकते हैं।

अल्कोहलिक फैटी लीवर रोग (एएफएलडी) को समझना

एएलडी के शुरुआती चरणों में से एक अल्कोहलिक फैटी लीवर रोग है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस बात पर जोर देते हैं कि मध्यम शराब के सेवन से भी लीवर में वसा जमा हो सकती है, जिसे फैटी लीवर के रूप में जाना जाता है। यदि शराब का सेवन जारी रहता है तो यह स्थिति लीवर की क्षति के अधिक गंभीर रूपों में बदल सकती है।

लीवर के स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले गैर-अल्कोहल कारक

मोटापा और गैर-अल्कोहलिक फैटी लीवर रोग (एनएएफएलडी)

मोटापा लीवर क्षति के लिए एक महत्वपूर्ण जोखिम कारक है जिसमें शराब शामिल नहीं है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने मोटापे और गैर-अल्कोहल फैटी लीवर रोग (एनएएफएलडी) के बीच एक मजबूत संबंध खोजा है। यह स्थिति तब होती है जब लीवर में अतिरिक्त वसा जमा हो जाती है, जिससे सूजन और संभावित घाव हो जाते हैं। इस संबंध के पीछे तर्क यह है कि अतिरिक्त वसा इंसुलिन प्रतिरोध का कारण बन सकती है, जो यकृत को वसा जमा करने के लिए प्रेरित करती है।

लीवर के स्वास्थ्य में आहार की भूमिका

प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों, शर्करा और संतृप्त वसा से भरपूर खराब आहार भी लीवर को नुकसान पहुंचा सकता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ फलों, सब्जियों और साबुत अनाज से भरपूर संतुलित आहार के महत्व पर जोर देते हैं। वे बताते हैं कि अस्वास्थ्यकर आहार से गैर-अल्कोहल स्टीटोहेपेटाइटिस (एनएएसएच) जैसी स्थितियां पैदा हो सकती हैं, जो सिरोसिस या यकृत कैंसर में बदल सकती हैं।

वायरल संक्रमण और लीवर की क्षति

हेपेटाइटिस बी और सी जैसे संक्रमण लिवर के स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा पैदा कर सकते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञ स्पष्ट करते हैं कि ये वायरस सीधे लीवर को निशाना बनाते हैं, जिससे सूजन और दीर्घकालिक क्षति होती है। वायरल से संबंधित यकृत क्षति को रोकने के लिए टीकाकरण और शीघ्र पता लगाना महत्वपूर्ण है।

दवाएं और लीवर स्वास्थ्य

दवाएं जो लीवर पर प्रभाव डालती हैं

कुछ दवाएँ, यहाँ तक कि असंबंधित स्वास्थ्य समस्याओं के लिए निर्धारित दवाएं भी, लीवर पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञ सावधान करते हैं कि व्यक्तियों को दवाओं से जुड़ी संभावित लीवर विषाक्तता के बारे में पता होना चाहिए। इसमें एसिटामिनोफेन जैसी ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दवाएं शामिल हैं, जो अधिक मात्रा में लेने पर लीवर को नुकसान पहुंचा सकती हैं।

आनुवंशिकी और लीवर स्वास्थ्य

लिवर रोग के लिए आनुवंशिक प्रवृत्ति

आनुवंशिकी भी लीवर के स्वास्थ्य में भूमिका निभा सकती है। कुछ व्यक्तियों में हेमोक्रोमैटोसिस और विल्सन रोग जैसी यकृत संबंधी बीमारियों की आनुवंशिक प्रवृत्ति होती है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ बताते हैं कि किसी की आनुवंशिक संरचना को समझने से इन स्थितियों को प्रभावी ढंग से पहचानने और प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। निष्कर्ष के तौर पर, लीवर की क्षति के लिए केवल अत्यधिक शराब का सेवन जिम्मेदार नहीं है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने उन कारकों की जटिल परस्पर क्रिया का खुलासा किया है जो लीवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इनमें जीवनशैली विकल्प शामिल हैं, जैसे आहार और मोटापा, वायरल संक्रमण, दवाएं और यहां तक ​​कि आनुवंशिक प्रवृत्ति भी। इन कारकों को समझना और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा दिए गए तार्किक स्पष्टीकरण लिवर के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं।

इन चीजों से होती है पेट में गैस, इस तरह से पाएं निजात

एक रात पुरानी बासी रोटी देगी सब्जियों और फलों से ज्यादा ताकत

अंजीर का पानी है हेल्दी और नेचुरल वेट लॉस ड्रिंक, जानिए कैसे करें इस्तेमाल

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -