लबों तक आ गयी है

ाँवरिया .......
.
एक जान है जो लबों तक आ गयी है .....
एक तुम हो जो आते नहीं हो .....
.
.
ओ बेदर्दी बालम .. ओ निर्मोही साजन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -