INR Rate, Gold Price forecast: भारतीय रुपये और सोने की चाल में आ सकता है परिवर्तन

INR Rate, Gold Price forecast: भारतीय रुपये और सोने की चाल में आ सकता है परिवर्तन

जब भी बाजार के उतार-चढ़ाव की बात की जाती है, तो vaha सोना और रुपया बहुत महत्वपूर्ण फैक्टर होते हैं। वैश्विक और घरेलू घटनाक्रमों का इन दोनों पर सीधा असर पड़ता है। आज हम आपको बताएंगे कि आने वाले दिनों में सोने और भारतीय रुपये की चाल कैसी रहने वाली है। यदि हम बात सोने और रुपये के बीच संबंध की करें, तो ये दोनों एक दूसरे के विरोधाभासी हैं। वही अर्थात जब रुपया मजबूत होता है, तो सोने में गिरावट देखने को मिलती है, और जब रुपया कमजोर होता है, तो सोने में तेजी देखी जाती है।

आने वाले समय में महंगा होगा सोना
आने वाले समय में सोने की कीमतों को काफी सपोर्ट मिलने के आसार हैं। इसके लिए वैश्विक और घरेलू दोनों कारण जिम्मेदार हो सकते है । केडिया एडवाइजरी के मैनेजिंग डायरेक्टर और रिसर्च हेड अजय केडिया के अनुसार, आने वाले दिनों में सोने का भाव वायदा बाजार में 40,500 रुपये प्रति 10 ग्राम, और अंतरराष्ट्रीय बाजार में 1,590 डॉलर प्रति औंस तक जा सकता है। इसके अलावा  कीमतों में इस बढ़ोत्तरी के पीछे निम्न वजहें हो सकती है ।1. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने हालिया रिपोर्ट में बताया है कि साल 2020 में ग्लोबल स्लोडाउन रह सकती है । इसके साथ ही आईएमएफ ने साल 2019 के लिए भारत के आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को भी घटाकर 4.8 फीसद कर दिया है। आईएमएफ के इस अनुमान से सेफ हैवन के रूप में सोने को सपोर्ट मिलेगा और कीमतों में तेजी आ सकती है।

2. सोने की कीमतों पर अंतरराष्ट्रीय तनाव का बड़ा असर पड़ने वाला है। वही इराक की राजधानी बगदाद में सोमवार रात अमेरिकी दूतावास के पास तीन रॉकेट दागे गए हैं। इस हमले से यूएस-ईरान के बीच तनाव में काफी बढ़ोत्तरी हो सकती है। इससे पहले शनिवार को यमन के एक सैन्य शिविर में हूती विद्रोहियों का बड़ा हमला हुआ, जिससे 100 लोग मारे गए। वैश्विक स्तर पर जैसे-जैसे तनाव बढ़ेगा, वैसे ही सोना सेफ हैवन के रूप में मजबूत होगा और कीमतों में तेजी आ सकती है ।3. बताया जा रहा है कि हाल ही में आरबीआई ने 5 महीने बाद सोने की खरीदारी की है। इससे कीमतों को सपोर्ट मिल रहा है। 4. चीन में 25 जनवरी से नया साल शुरू होने वाला है। इस दौरान चीन में सोने की अच्छी मांग रहेगी, जिससे कीमतों को सपोर्ट मिल सकता है ।5. भू-राजनीतिक तनाव के चलते क्रूड ऑयल की कीमतों में आने वाले समय में तेजी बने रहने के आसार हैं, जिससे रुपया कमजोर होगा और इसका सीधा असर सोने की कीमतों में बढ़ोत्तरी के रूप में दिखायी दे सकता है ।

अपने उपभोक्ताओं को ICICI बैंक ने दिया बड़ा तोहफा, अब बिना कार्ड के निकाल सकेंगे पैसे

IMF से आई बुरी खबर, देश की GDP को लेकर की बड़ी भविष्यवाणी

आज ही फुल करवा लें अपनी गाड़ी का टैंक, आसमान पर पहुँचने वाले हैं पेट्रोल-डीजल के दाम