Share:
'नाबालिग हिन्दू बच्ची का किडनैप और जबरन धर्मांतरण..', जो पाकिस्तान में होता था, अब बंगाल में भी होने लगा, आरोपी असीबुर रहमान फरार
'नाबालिग हिन्दू बच्ची का किडनैप और जबरन धर्मांतरण..', जो पाकिस्तान में होता था, अब बंगाल में भी होने लगा, आरोपी असीबुर रहमान फरार

कोलकाता: पश्चिम बंगाल के पश्चिम मेदिनीपुर जिले से अपहरण और जबरन धर्म परिवर्तन का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। एक नाबालिग हिंदू लड़की (15 वर्ष) का अपहरण कर जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया है। पीड़ित परिवार द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के बावजूद, पुलिस ने बहुत कम सक्रियता दिखाई है, संभवतः अपहरणकर्ता का सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (TMC) पार्टी के एक प्रमुख व्यक्ति से संबंध होने के कारण। साथ ही हाई कोर्ट ने पुलिस को लड़की के परिवार को जरूरी सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश दिया है। 

रिपोर्ट के अनुसार, आरोपी की पहचान असीबुर रहमान के रूप में हुई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार, युवा हिंदू लड़की मालीग्राम गांव में रहती थी, जो पश्चिम मेदिनीपुर जिले के पिंगला पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र में आता है। 18 जून को वह सिक्किम के नामची से लापता हो गई थी।  उसके पिता ने तुरंत नामची पुलिस स्टेशन में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। इसके बाद, उन्होंने पश्चिम बंगाल के पश्चिम मेदिनीपुर जिले के पिंगला पुलिस स्टेशन में अपहरण का मामला दर्ज कराया। अफसोस की बात है कि पुलिस की प्रतिक्रिया बेवजह निष्क्रिय रही। अपनी बेटी तपन सशमल को वापस पाने के लिए पीड़िता के पिता ने कलकत्ता उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की।

तपन सशमल ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि, 'अपहरणकर्ता, असीबुर रहमान, सत्तारूढ़ TMC पार्टी के एक उच्च पदस्थ नेता से निकटता से जुड़ा हुआ है। असिबुर ने मेरी बेटी को उठा ले जाने की धमकी दी थी. उसकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के प्रयास में, मैंने उसे सिक्किम भेज दिया, जहाँ उसके चाचा कार्यरत हैं। लेकिन, वहीं से आसीबुर रहमान ने मेरी बेटी का अपहरण कर लिया। शिकायत दर्ज करने के बावजूद, पिंगला पुलिस ने उसका पता लगाने के लिए कोई कार्रवाई नहीं की है। मुझे डर है कि उसका जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया होगा। मैं बस यही चाहता हूं कि मेरी बेटी वापस आ जाए।''

याचिका पर सुनवाई के दौरान डिवीजन बेंच के न्यायमूर्ति तपोब्रत चक्रवर्ती और न्यायमूर्ति पार्थसारथी चट्टोपाध्याय ने मामले को संभालने के बंगाल पुलिस के तरीके पर असंतोष व्यक्त किया। खंडपीठ ने पुलिस को एक सप्ताह के भीतर नाबालिग लड़की को ढूंढकर वापस लाने और बाल कल्याण समिति को हस्तांतरित करने का निर्देश दिया है। लड़की के परिवार के कानूनी प्रतिनिधि तन्मय बसु ने आरोप लगाया है कि, "ऐसा प्रतीत होता है कि पुलिस अपहरणकर्ता असीबुर रहमान को बचा रही है, क्योंकि उसका एक शक्तिशाली TMC नेता के साथ घनिष्ठ संबंध है, जो पिंगला के आंचल सभापति के रूप में कार्य करता है।" अगली सुनवाई 6 अक्टूबर को होनी है। बता दें कि, इस तरह के मामले अक्सर पाकिस्तान से सामने आते हैं, जहाँ हिन्दू-सिख बच्चियों को सरेआम उठा लिया जाता है और फिर उन्हें जबरन इस्लाम में धर्मान्तरित कर, किसी अधेड़ मुस्लिम से उनका जबरदस्ती निकाह करा दिया जाता है, लेकिन ये बेहद चिंता की बात है कि, अब वैसी ही घटनाएं भारत में भी होने लगी हैं

रूसी कपल ने हरिद्वार में आकर वैदिक रीति-रिवाज से रचाई शादी, स्वामी परमानंद से लिया आशीर्वाद

'भारत का हिस्सा नहीं हैं कश्मीर और अरुणाचल..', NewsClick को चीन से यही दिखाने का पैसा मिला - दिल्ली पुलिस

थमने का नाम नहीं ले रहा महाराष्ट्र के सरकारी अस्पतालों में मौत का तांडव, अब नागपुर में 25 मरीजों ने तोड़ा दम

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -