प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले इन बातों का रखें ध्यान
प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले इन बातों का रखें ध्यान
Share:

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने हाल ही में बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक विभिन्न आयु समूहों में स्वास्थ्य और फिटनेस को बढ़ावा देने के लिए आहार और जीवनशैली पर ध्यान केंद्रित करते हुए व्यापक दिशानिर्देश जारी किए हैं। ये दिशानिर्देश सही आहार, पोषण युक्त खाद्य पदार्थों और दैनिक गतिविधियों पर विस्तृत सिफारिशें प्रदान करते हैं। इसके अतिरिक्त, दिशानिर्देश गर्भवती महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण पहलुओं को संबोधित करते हैं, जिसमें संतुलित आहार और गर्भावस्था से पहले के विचार शामिल हैं।

गर्भावस्था पूर्व योजना और स्वास्थ्य
गर्भावस्था के दौरान माँ और अजन्मे बच्चे दोनों का स्वास्थ्य और कल्याण सुनिश्चित करना उचित शारीरिक और मानसिक विकास और सुरक्षित प्रसव के लिए आवश्यक है। आईसीएमआर ने गर्भावस्था से पहले भी पालन किए जाने वाले विशिष्ट दिशानिर्देशों की रूपरेखा तैयार की है।

गर्भावस्था के लिए आदर्श उम्र
आईसीएमआर के अनुसार, गर्भावस्था की योजना बनाने की आदर्श उम्र कम से कम 21 वर्ष है। यह अनुशंसा यह सुनिश्चित करने पर आधारित है कि माँ शारीरिक परिपक्वता के इष्टतम स्तर तक पहुँच गई है और गर्भावस्था की माँगों के लिए बेहतर ढंग से तैयार है। पर्याप्त मातृ आयु एक स्वस्थ बच्चे के जन्म में योगदान देती है, बशर्ते कि माँ उचित वजन बनाए रखे और गर्भावस्था के दौरान पर्याप्त पोषण प्राप्त करे, जिसे गर्भावस्था पूर्व पोषण के रूप में जाना जाता है।

गर्भावस्था से पहले आवश्यक परीक्षण
गर्भावस्था की योजना बना रही महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान जटिलताओं से बचने के लिए कई बुनियादी स्वास्थ्य परीक्षण कराने चाहिए। इन परीक्षणों में शामिल हैं:

रक्तचाप: उच्च रक्तचाप की जाँच के लिए।
थायराइड कार्य: किसी भी थायराइड असंतुलन का पता लगाने के लिए।
रक्त शर्करा: मधुमेह की जांच के लिए।
एनीमिया: हीमोग्लोबिन के स्तर और लाल रक्त कोशिकाओं की स्थिति का आकलन करने के लिए।
शारीरिक वजन: एक स्वस्थ वजन सीमा सुनिश्चित करने के लिए।
ये परीक्षण किसी भी संभावित स्वास्थ्य समस्या की पहचान करने और उसका प्रबंधन करने में मदद करते हैं जो गर्भावस्था को प्रभावित कर सकती है।

फोलिक एसिड का महत्व
आईसीएमआर इस बात पर जोर देता है कि महिलाओं को गर्भधारण से पहले फोलिक एसिड लेना शुरू कर देना चाहिए और गर्भावस्था के दौरान जारी रखना चाहिए। फोलिक एसिड बच्चे के मस्तिष्क के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और न्यूरल ट्यूब दोष को रोकने में मदद करता है। फोलिक एसिड की उचित खुराक निर्धारित करने के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से परामर्श करना आवश्यक है।

आईसीएमआर के दिशानिर्देश विभिन्न आयु समूहों के लिए उचित आहार और जीवनशैली विकल्पों के माध्यम से स्वास्थ्य और फिटनेस बनाए रखने में मूल्यवान अंतर्दृष्टि प्रदान करते हैं। गर्भावस्था की योजना बना रही महिलाओं के लिए, इन दिशानिर्देशों का पालन स्वस्थ गर्भावस्था और स्वस्थ बच्चे के जन्म में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है। मुख्य अनुशंसाओं में गर्भावस्था के लिए उचित आयु सुनिश्चित करना, आवश्यक स्वास्थ्य परीक्षण कराना और स्वास्थ्य पेशेवरों की सलाह के अनुसार फोलिक एसिड की खुराक लेना शामिल है।

गर्मी में घर लौटने के बाद ना करें ये गलतियां, सेहत के लिए हो सकता है 'खतरनाक'

नींद की कमी से बढ़ता है बीमारियों का जोखिम, इन उपायों से पाएं राहत

गर्मी के मौसम में दही के साथ भूलकर भी न खाएं ये चीजें, वरना ख़राब हो जाएगी हालत

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -