यहाँ कांवड़िए यात्रा से पहले कान पकड़ कर करते है उठक बैठक, जानिए क्या है कारण
यहाँ कांवड़िए यात्रा से पहले कान पकड़ कर करते है उठक बैठक, जानिए क्या है कारण
Share:

प्रयागराज- सावन का महीना भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने का सर्वोत्तम समय माना जाता है, यही कारण है कि राज्य के विभिन्न हिस्सों से शिव भक्त जलाभिषेक करके उनकी पूजा करते हैं। इस अनुष्ठान के दौरान, वे सबसे पहले अपने पात्र में गंगा जल इकट्ठा करते हैं और अपनी आस्था और क्षमता के आधार पर कांवड़ को निकटतम शिव मंदिर में ले जाते हैं।

अनोखा पहलू यह है कि, प्रयागराज के संगम घाट पर कांवड़िए एक पात्र में जल भरकर, 11 बार कान पकड़ कर उठक बैठक कर के  मां गंगा की पूजा करते हैं. भक्तों का मानना ​​है कि इन अनुष्ठानों को करने से यात्रा सुचारु और बाधा रहित हो जाती है।

मान्यता ऐसी है

 लोग गंगा तट पर जल भरते हैं तो मां की स्तुति करते हैं. इस दौरान उनसे हुई किसी भी गलती के लिए हम कान पकड़कर माफी मांगते हैं, माफी की उम्मीद करते हैं। इसके अतिरिक्त, हम बिना किसी कठिनाई के सुगम कांवर यात्रा की आशा करते हैं। पिछले 7 वर्षों से काशी नगरी में भगवान भोलेनाथ को जल चढ़ा रहे हैं। पंडा महाराज ने उन्हें घाट पर यात्रा करने से पहले अपनी गलतियों को स्वीकार करने का महत्व सिखाया है।

घर की नकारात्मक ऊर्जा को दूर करते हैं जीरे से जुड़े वास्तु उपाय, होती है धन की वर्षा

यदि खिड़की के पास रखते है यह वस्तुएं, तो घर में पड़ सकता है नकारात्मक प्रभाव

यहाँ 'खिचड़ी' रूप में विराजमान है भगवान भोलेनाथ, श्री राम के वंशज के भक्ति से हुए थे प्रकट

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -