'उमर खालिद मेरा दोस्त नहीं..', कन्हैया कुमार के बयान पर भड़क गए इस्लामवादी, कहा- धोखेबाज़

नई दिल्ली: जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष और कांग्रेस नेता कन्हैया कुमार ने हाल ही में अपने दोस्त उमर खालिद से खुद को अलग कर लिया है। यही नहीं कन्हैया से जब एक पत्रकार ने उनके मित्र उमर खालिद को लेकर सवाल किया कहा तो वो इससे साफ मुकर गए। बता दें कि उमर खालिद गत वर्ष फरवरी 2020 में दिल्ली में हुए हिन्दू विरोधी दंगों के आरोपितों में शामिल है।

 

कन्हैया की दोस्ती में धोखा देने वाली इस टिप्पणी का यह वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इसके अनुसार, पत्रकार ने कन्हैया कुमार से सवाल किया कि क्या उमर खालिद उनके दोस्त हैं या नहीं? इस पर जवाब देते हुए कन्हैया ने कहा कि, “तुमसे किसने कहा?” इसके बाद पत्रकार ने जवाब दिया कि उसने उन्हें एक वीडियो में देखा था। इस पर कन्हैया कुमार ने फिर सवाल किया कि किस वीडियो में उन्होंने उसे उमर को अपना मित्र कहते हुए देखा। बहरहाल, कन्हैया के इस बयान पर खालिद के समर्थक और कुछ इस्लामवादी खफा हो गए और वो अपनी नाराजगी को सोशल मीडिया के जरिए प्रकट कर रहे हैं।

इरेना अकबर ने कन्हैया कुमार को पीठ पर छूरा घोंपने वाला बताया है, जिसने उमर खालिद के साथ दगा किया है। इरेना ने लिखा कि, 'एक दोस्त जो आपको आपके कठिन वक़्त में छोड़ देता है, वह पीठ में छुरा घोंपने वाले से कम नहीं है। वह दुश्मन से भी बदतर है। स्वार्थी, अवसरवादी कायर कन्हैया कुमार उमर खालिद की मित्रता के योग्य नहीं थे। उमर के लिए अच्छा है। मुस्लिमों के लिए एक सबक सीखा। हम इसमें अकेले हैं।'

प्रियंका वाड्रा के बच्चों का इंस्टाग्राम हैक करके क्या करेगी सरकार ?

यूपी में विपक्ष पर जमकर बरसे पीएम मोदी, कहा- 5 वर्ष पूर्व यहाँ माफिया राज था

किसानों के बाद अब बैंककर्मियों के समर्थन में आए वरुण गांधी, अपनी ही सरकार को घेरा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -